चरखी दादरी: किसानों बीच पहुंची नैना चौटाला को करना पड़ा विरोध का सामना, वापस लौटीं

किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी
किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी

किसानों (Farmers) ने विधायक नैना चौटाला (Naina Chautala) पर झूठे आश्वासन देने के आरोप लगाते हुए विरोध प्रदर्शन किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 23, 2020, 1:54 PM IST
  • Share this:
चरखी दादरी. फसल खरीद, मुआवजा व किसानों से संबंधित मांगों को लेकर बाढड़ा की अनाजमंडी के समक्ष धरने पर बैठे किसानों बीच पहुंची विधायक नैना चौटाला (Naina Chautala) को विरोध का सामना करना पड़ा. किसानों ने विधायक पर झूठे आश्वासन देने के आरोप लगाते हुए विरोध प्रदर्शन (Protest) किया और नारेबाजी की. किसानों के विरोध को देखते हुए विधायक वापिस लौट गई. हालांकि बाद में विधायक ने कहा कि किसानों की मांगों को पूरा करवाने के लिए ही किसानों के बीच गई थी.

बता दें कि भाकियू सहित कई किसानों संगठनों ने मिलकर बाढड़ा अनाजमंडी के समक्ष धरना शुरू किया. धरने पर किसानों ने विधायक नैना चौटाला का विरोध करने का निर्णय लिया तो मौके पर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया. विधायक नैना चौटाला किसानों के धरने पर पहुंची और उनको आश्वस्त किया कि उनकी मांगों को पूरा कर दिया जाएगा. इसी दौरान किसानों ने विधायक पर झूठे आश्वासन देने का आरोप लगाते हुए विरोध जताया. किसानों के विरोध को देखते हुए नैना चौटाला वापिस लौट गई. बाद में विधायक ने रेस्ट हाऊस में लोगों की जनसमस्याएं सुनी और अनाजमंडी का निरीक्षण भी किया.

वयोवृद्ध किसान नेता कमल सिंह मांढी व इनेलो नेता सत्यावान शास्त्री ने कहा कि बाढड़ा की जनता ने किसान परिवार की महिला नैना चौटाला को विधायक बनाया है. लेकिन विधायक ने किसानों की समस्याओं को लेकर सिर्फ झूठे वायदे ही किए. किसान जहां टोकन व खरीद के लिए मंडियों के चक्कर लगा रहे हैं वहीं बर्बाद फसलों की मुआवजा राशि मंजूर होने के बाद भी किसानों को नहीं दी गई. ऐसे में विधायक का विरोध किया है और जरूरत पड़ी तो फिर से धरना देकर विरोध करेंगे.



बाढड़ा विधायक नैना चौटाला ने कहा कि वे किसानों की समस्याओं के समाधान को लेकर ही धरने पर गई थी. कोई विरोध नहीं था, किसानों की समस्याएं मान ली गई हैं. जो जायज मांगें हैं उनको पूरा करवाएंगे. ओलावृष्टि से बर्बाद फसलों का मुआवजा 15 दिन के अंदर किसानों को दिलवाएंगे. वहीं खरीद को लेकर सोमवार से सभी मंडियों में 200-200 किसानों को टोकन जारी होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज