बबीता फोगाट को किसानों ने दिखाए काले झंडे, पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद हटाया

बिरही कलां में गीता फोगाट के काफिले को रोककर किसानों ने काले झंडे दिखाए.

बिरही कलां में गीता फोगाट के काफिले को रोककर किसानों ने काले झंडे दिखाए.

हरियाणा महिला विकास निगम की चेयरमैन और रेसलर बबीता फोगाट को बिरही कलां में काले झंडे दिखाए गए. वे सरकार के 7 साल पूरे होने पर ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को मास्क व सैनेटाइजर वितरित करने जा रही थीं.

  • Share this:

प्रदीप साहू.

चरखी दादरी. हरियाणा महिला विकास निगम की चेयरमैन और रेसलर बबीता फोगाट (Wrestler Babita Phogat) को बिरही कलां (Birhi kalan) में काले झंडे (black flags) दिखाए गए. सांगवान खाप (Sangwan Khap) की अगुवाई में किसानों ने काले झंडे दिखाकर विरोध प्रदर्शन किया. दरअसल, गांव बिरही कलां के पास सैकड़ों किसानों ने महिलाओं संग बबीता का रास्ता रोका और प्रदर्शन करते हुए उनकी गाड़ी के समक्ष पहुंच गए. हालांकि बाद में पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद किसानों को हटाया.

मास्क और सैनेटाइजर बांटने जा रही थीं बबीता फोगाट

किसानों ने स्पष्ट किया कि भाजपा-जजपा नेताओं का विरोध वे जारी रखेंगे. बता दें कि केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ दादरी जिला की विभिन्न खापों ने पंचायत करके किसानों के समर्थन में भाजपा-जजपा नेताओं के गांवों में एंट्री न करने देने का फैसला किया था. इसी कड़ी में किसानों ने जिले में कई बार सरकार के नेताओं का विरोध भी किया था. महिला बाल विकास निगम की चेयरमैन बबीता फोगाट सरकार के 7 वर्ष पूरे होने पर ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को मास्क व सैनेटाइजर वितरित करने जा रही थीं. जिसकी सूचना किसानों को मिली तो वे गांव बिरही कलां के समीप एकजुट हो गए. जैसे ही बबीता फोगाट का काफिला गांव बिरही के समीप पहुंचा तो महिलाओं संग सैकड़ों किसानों ने उनकी गाड़ी रोकते हुए काले झंडों के साथ विरोध प्रदर्शन किया. कई किसान बबीता की गाड़ी के आगे लेट गए और विरोध जताया. बाद में कड़ी मशक्कत के बाद किसानों को हटाकर गाड़ी को निकाला गया.
भाजपा-जजपा नेताओं का विरोध जारी रखने की घोषणा

किसान नेता राजू मान ने बताया कि कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों द्वारा भाजपा-जजपा नेताओं का विरोध किया जा रहा है. इसी कड़ी में महिलाओं के साथ सैकड़ों किसानों ने आज बबीता फोगाट के काफिले को रोकते हुए काले झंडों के साथ विरोध प्रदर्शन किया है. किसान विरोध कर रहे हैं, फिर भी ये नेता क्षेत्र में दौरा कर रहे हैं. अगर ऐसा ही रहा तो किसानों का विरोध जारी रहेगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज