ग्रीन कॉरिडर मामला : किसान पीएम से मिलकर मांगेंगे जमीन का मुआवजा

Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: September 7, 2019, 5:26 PM IST
ग्रीन कॉरिडर मामला : किसान पीएम से मिलकर मांगेंगे जमीन का मुआवजा
किसानों ने चेतावनी के स्वर में कहा कि उन्हें रोहतक में पीएम से नहीं मिलने दिया गया तो उसी समय रणनीति बनाकर बड़ा आंदोलन करेंगे.

ग्रीन कॉरिडोर 152 डी की अधिग्रहीत जमीन का मुआवजा किसान अब रोहतक में प्रधानमंत्री से मिलकर मांगेंगे. इस मामले को लेकर किसानों ने डीसी के माध्यम से पीएम को चिट्ठी लिखी है.

  • Share this:
चरखी दादरी. ग्रीन कॉरिडोर 152 डी (Green Corridor 152D ) की अधिग्रहीत जमीन का मुआवजा (Compensation of acquired land) किसान (Farmers) अब रोहतक (Rohtak)  में प्रधानमंत्री (Prime Minister) से मिलकर मांगेंगे. इस मामले को लेकर किसानों ने डीसी के माध्यम से पीएम को चिट्ठी लिखी है. किसानों ने कहा है कि अगर उन्हें रोहतक में पीएम से नहीं मिलने दिया गया तब प्रदेश भर के किसान उसी समय आर-पार की रणनीति बनाते हुए बड़े आंदोलन की घोषणा करेंगे. नारनौल गंगेहड़ी से ग्रीन कॉरिडोर की अधिग्रहीत जमीन का मुआवजा वृद्धि सहित अनेक मांगों को लेकर प्रदेश में कई स्थानों पर किसान लगातार धरना (Dharna) दे रहे हैं. इसी कड़ी में दादरी जिले के 18 गांवों के किसान पिछले 7 माह से गांव रामनगर (Ramnagar) में अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं.

किसानों की मांग है कि उनको उनकी जमीन का उचित मुआवजा मिले. साथ ही धरने के दौरान अब तक चार किसानों की मौत (Farmers Death) मामले में उनके आश्रितों को सहायता मिले. प्रदेश सरकार द्वारा किसानों की मांगों को देखते हुए जमीन का कलेक्टर रेट भी बढ़ाया जा चुका है, लेकिन किसानों का कहना है कि उन्हें वाजिब मुआवजा राशि (Compensation Amount) नहीं मिल रही है.

धरनारत किसानों की मुआवजा वृद्धि को लेकर लड़ाई जारी रखने का ऐलान


पीएम से मिलने नहीं दिया तो करेंगे आंदोलन

रामनगर गांव (Ramnagar Village) में धरनारत किसानों ने अपनी मांगों को लेकर रोष प्रदर्शन किया और सरकार पर वादा खिलाफी का आरोप लगाया. धरने की अगुवाई कर रहे किसान नेता विनोद मोड़ी व अनूप खातीवास ने संयुक्त रूप से कहा कि किसान अपनी वाजिब मांगों को पूरा करवाने के लिए 7 महीने से सड़कों पर बैठे हैं. सरकार ने वादा करने के बाद भी किसानों की मांगों को पूरा नहीं किया.

किसानों ने कहा कि वे अब चुप नहीं बैठेंगे और आर-पार की लड़ाई लड़ेंगे. किसानों ने कहा कि जिला प्रशासन के माध्यम से किसानों का प्रतिनिधिमंडल (Farmers Delegation) 8 सितम्बर को रोहतक में प्रधानमंत्री से मिलने के लिए चिट्ठी लिखी है. इस दौरान प्रदेश भर के किसान रोहतक पहुंचेंगे. किसानों का कहना है कि अगर प्रशासन ने उन्हें पीएम से नहीं मिलवाया तो रोहतक में ही आर-पार की लड़ाई व बड़े आंदोलन की घोषणा की जाएगी.

ये भी पढ़ें - चरखी दादरी में खड़े डंपर से बाइक टकराने से बेटी की मौत, मां घायल
Loading...

ये भी पढ़ें - योगेन्द्र यादव ने CM को दी नसीहत, कहा- मंच नहीं, जनता के बीच जाकर लें आशीर्वाद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चरखी दादरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 7, 2019, 5:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...