किसानों ने काली पट्टी व काले झंडों के साथ निकाला जुलूस, जताया रोष

ग्रीन कॉरिडोर की अधिग्रहीत भूमि के मुआवजा में वृद्धि की मांग को लेकर सड़कों पर उतरे किसानों ने काली पट्टी व काले झंडों से अपना रोष जताया.

News18 Haryana
Updated: August 2, 2019, 9:42 AM IST
किसानों ने काली पट्टी व काले झंडों के साथ निकाला जुलूस, जताया रोष
काले झंडे के साथ विरोध प्रदर्शन करते किसान
News18 Haryana
Updated: August 2, 2019, 9:42 AM IST
नेशनल हाईवे ग्रीन कॉरिडोर 152 डी की अधिग्रहीत जमीन के मुआवजा वृद्धि की मांग को लेकर पांच माह से धरनारत किसानों ने काली पट्टी बांधकर व काले झंडों के साथ शहर में जुलूस निकालते हुए रोष प्रदर्शन किया. किसानों ने लघु सचिवालय पहुंचकर अधिकारियों को गुलाब के फूल थमाते हुए समाधान की मांग की. साथ ही कहा कि समाधान नहीं होने तक धरना जारी रहेगा और आंदोलन को तेज किया जाएगा.  किसानों ने 14 अगस्त को रेल रोकने का अल्टीमेटम दिया है.

किसानों ने निकाला जुलूस


नारनौल से गंगेहड़ी तक आधा दर्जन क्षेत्रों में किसान बैठे हैं धरने पर 
नारनौल से गंगेहड़ी तक करीब 230 किलोमीटर की अधिग्रहीत जमीन का मुआवजा बढ़ाने की मांग को लेकर आधा दर्जन क्षेत्रों में किसानों के धरने चल रहे हैं. दादरी जिले के 17 गांवों के किसान गांव मोड़ी व ढाणी फौगाट में दो स्थानों पर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं. किसानों ने अपनी मांगों को लेकर काली पट्टी बांधकर व काले झंडों के साथ शांति जुलूस निकाला. बाद में किसानों ने लघु सचिवालय पहुंंचकर सरकार व अधिकारियों के खिलाफ रोष प्रदर्शन किया.

किसानों ने अधिकारियों को भेंट किए गुलाब के फूल 

इस दौरान किसानों ने अधिकारियों को गुलाब के फूल देते हुए उनकी मांगों का समाधान करवाने की मांग की. साथ ही सीएम व राज्यपाल के नाम ज्ञापन भी सौंपा. किसान नेता विनोद मोड़ी व अनूप खातीवास ने कहा कि पिछले दिनों जुलाना महापंचायत में 14 अगस्त का रेल रोकने का निर्णय लिया जा चुका है. इस दौरान किसान अपनी मांगों को लेकर रोजाना प्रशासनिक अधिकारियों के द्वार तक पहुंचेंगे और फूल देकर उनकी मांगों को याद दिलाएंगे. उन्होंने कहा कि किसान 6 माह से सड़कों पर बैठे हैं, लेकिन सरकार द्वारा किसानों की सुनवाई नहीं की जा रही है. अब वे आंदोलन को आगे बढ़ाते हुए बड़े स्तर पर आर-पार की लड़ाई लड़ेंगे.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चरखी दादरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 2, 2019, 9:42 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...