हरियाणा की पहली महिला सांसद चंद्रावती का निधन, पूर्व CM बंसीलाल को दी थी मात

पूर्व सांसद चद्रावती का राजकीय सम्मान के साथ गांव में अंतिम संस्कार किया गया.
पूर्व सांसद चद्रावती का राजकीय सम्मान के साथ गांव में अंतिम संस्कार किया गया.

पूर्व सांसद चंद्रावती (Chandravati) ने 70 के दशक में भिवानी संसदीय सीट पर चुनाव लड़कर प्रदेश के पूर्व सीएम बंसीलाल (Bansi Lal) को करारी शिकस्त दी थी. जिसके बाद उन्हें राज्य की पहली महिला सांसद बनने का गौरव प्राप्त हुआ था.

  • Share this:
चरखी दादरी. हरियाणा की पहली महिला सांसद चंद्रावती (Chandravati) का रविवार को रोहतक पीजीआई में निधन हो गया. उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. इसलिए चिकित्सकों की टीम द्वारा उनके पैतृक गांव डालावास में राजकीय सम्मान के साथ पूर्व सांसद का अंतिम संस्कार (Last Rite) किया गया. इस दौरान कई नेता व गणमान्य लोग अंतिम यात्रा में शामिल हुए.

पूर्व विधायक रणवीर मंदोला, पूर्व विधायक धर्मपाल ओबरा, पूर्व विधायक छतर सिंह घिराय, युवा कांग्रेस जिलाध्यक्ष अनिल धनखड़, अमन डालावास, अरूण धनखड़, पूर्व सरपंच करतार, विशाल पटवारी, सीटीएम सुरेश कुमार, डीएसपी अनिल डुडी व नायब तहसीलदार शेखर कुमार अंतिम संस्कार में शरीक हुए.

पूर्व सांसद चंद्रावती ने 70 के दशक में जनता पार्टी की ओर से भिवानी संसदीय सीट पर चुनाव लड़कर प्रदेश के पूर्व सीएम बंसीलाल को करारी शिकस्त दी थी. जिसके बाद उन्हें राज्य की पहली महिला सांसद बनने का गौरव प्राप्त हुआ था. वह पूर्व उप राज्यपाल भी रहीं.



पूर्व सांसद चंद्रावती अपने जीवन में 14 चुनाव लड़ीं. अपने सियासी करियर में वे संसदीय सचिव, विधायक, राज्य मंत्री, सांसद और उप राज्यपाल बनीं. लेकिन उनके मन में हमेशा सीएम नहीं बनने की टीस रही. चंद्रावती हरियाणा की पहली महिला सांसद के साथ-साथ पहली महिला विधायक भी थीं. वह पुडुचेरी की उपराज्यपाल भी रहीं.
पूर्व सांसद का जन्म 3 सितंबर 1928 को दादरी जिले के गांव डालावास में हुआ था. उन्होंने संगरूर से स्नातक की डिग्री हासिल की थी. दिल्ली विश्वविद्यालय से एलएलबी की डिग्री हासिल की. चंद्रावती ने पहला विधानसभा चुनाव बाढड़ा सीट पर 1954 में लड़ा और जीत हासिल की थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज