चोट से मुकाबला किया तो फिर ओलंपिक तक पहुंची विनेश
Charkhi-Dadri News in Hindi

चोट से मुकाबला किया तो फिर ओलंपिक तक पहुंची विनेश
विनेश फोगाट ने किया टोक्यो ओलंपिक में क्वालीफाई

चरखी दादरी जिले के छोटे से गांव बलाली निवासी विनेश फौगाट के टोक्यो ओलंपिक में क्वालीफाई होने पर होने तक का सफर कई उतार-चढ़ाव का रहा

  • Share this:
चरखी दादरी. ‘कांटों मे जो पलता है, शोलों में जो खिलता है, वह फूल ही गुलशन की तारीख बदलता है.’ ये पंक्तियां चरखी दादरी (Charkhi Dadri) के गांव बलाली निवासी अंतर्राष्ट्रीय महिला पहलवान विनेश फोगाट (Vinesh Phogat) की मेहनत पर एकदम फिट बैठती हैं, जिन्होंने रियो ओलंपिक के दौरान लगी चोट का मुकाबला किया और टोक्यो 2020 ओलंपिक में क्वालीफाई कर साबित कर दिया कि कड़ी मेहनत के बूते लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है.

विनेश ने 53 किलोग्राम वर्ग में ओलंपिक का टिकट हासिल करने में सफलता हासिल की. वह वर्ल्ड चैंपियनशीप में ही 2020 ओलंपिक में जगह बनाने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बन गई हैं.
बता दें कि विनेश फौगाट ने विश्व कुश्ती चैंपियनशिप के रेपचेज राउंडर में अमेरिका की सारा हिल्डरब्रैंट को हराकर यह उपलब्धि हासिल की. विनेश चैंपियनशिप के दूसरे मुकाबले में सारा को 8-2 से के अंतर से हराया और अपने पदक की उम्मीद बरकरार रखी. टूर्नामेंट के महिलाओं के 53 किग्रा भार वर्ग में विनेश ने पहले दौर में रियो ओलम्पिक की पदक विजेता स्वीडन की सोफिया मैटसन को मात दी थी. इस मुकाबले को विनेश ने 13-0 के बड़े अंतर से जीता था. हालांकि प्री क्वार्टर फाइनल में उनको मौजूदा गोल्ड मेडल विजेता जापान की मायु मुकैदा से हार का सामना करना पड़ा था.

खामोशी से दिया काम को अंजाम
विनेश फौगाट ने अपने काम को बड़ी खामोशी व खूबसूरती के साथ अंजाम दिया. रियो ओलंपिक में चोट लगने के बाद कड़ी मेहनत के बूते विनेश फौगाट ने मैट पर वापसी करते हुए अनेक अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धाओं में मेडल बटोरे हैं. आज उसी मेहनत का परिणाम है कि विनेश टोक्यो 2020 ओलंपिक में क्वालीफाई कर की पहली भारतीय बनी है. विनेश की इस उपलब्धि पर जहां पूरा चरखी दादरी जिला खुशियां मना रहा है वहीं परिजनों ने विनेश की मेहनत का फल बताते हुए खुशी जाहिर की है.



उतार चढ़ाव भरा रहा सफर

चरखी दादरी जिले के छोटे से गांव बलाली निवासी विनेश फौगाट के टोक्यो ओलंपिक में क्वालीफाई होने पर होने तक का सफर कई उतार-चढ़ाव का रहा है. विनेश फोगाट की इस उपलब्धि पर जहां चरखी दादरी ही नहीं बल्कि देशभर के खेल प्रेमियों के लिए बड़ी उपलब्धि है.

महावीर फोगाट ने कही ये बात

परिजनों ने विनेश की इस उपलब्धि पर उनकी कड़ी मेहनत का फल बताया है। विनेश की ताऊ द्रोणाचार्य अवार्डी महाबीर पहलवान का कहना है कि विनेश का टोक्यो ओलंपिक में क्वालीफाई होना उनके लिए सबसे बेहद खुशी है. यह परिवार को ही नहीं बल्कि देशभर के लिए गर्व है. विनेश ने चोट से उभरते हुए मैट पर मेहनत की तो वे आज इस मुकाम पर पहुंची हैं. उन्हें आश है कि वह 2020 के ओलंपिक में गोल्ड जीतकर देश का नाम रोशन करें.

बबीता ने कहा टोक्यों ओलंपिक में देश का नाम रोशन करेंगी विनेश

बबीता फौगाट ने कहा कि विनेश ने कड़ी मेहनत करते हुए रियो ओलंपिक में लगी चोट से उभरी है और 53 किलोग्राम भारवर्ग में मैट पर उतरकर बेहतरीन वापसी की है. वर्ल्ड चैंपियनशीप में ही ओलंपिक का टिकट मिलने पर विनेश का तैयारियां करने का मौका मिलेगा. जिस तरह से विनेश ने विश्व चैंपियनशीप में वल्र्ड के टापर खिलाडिय़ों से धूल चटाते हुए जीत हासिल की है, जरूरी टोक्यो ओलंपिक में गोल्ड देश के नाम होगा.

ये भी पढ़ें-पत्नी ने दूसरी शादी का विरोध किया तो पति ने तीन तलाक कह कर घर से निकाला

ये भी पढ़ें- पति को बेहोश कर पत्नी बना रही थी अवैध संबंध, आ गया होश और फिर...
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज