Kisan Andolan: खापों ने उठाया आंदोलन तेज करने का जिम्मा, 27 मई को किसान मनाएंगे काला दिवस

खाप पंचायतों ने बैठक में लिया बड़ा फैसला.

खाप पंचायतों ने बैठक में लिया बड़ा फैसला.

Haryana News: आंदोलन (Farmers Protest) के 6 महीने पूरे होने पर किसानों ने 27 मई को काला दिवस मनाने का फैसला लिया है.

  • Share this:

चरखी-दादरी. केंद्र सरकार के कृषि कानूनों (Agriculture Law) के खिलाफ किसानों का आंदोलन (Farmers Protest) अब खापों के सहयोग से आगे बढ़ाया जाएगा. खापों के सहयोग से किसान 27 मई को आंदोलन के 6 माह पूरे होने पर काला दिवस मनाएंगे और बाद में रणनीति अनुसार एकजुटता के साथ आर-पार की लड़ाई लड़ी जाएगी. काला दिवस कार्यक्रम में खापों के साथ-साथ सामाजिक व कर्मचारी संगठन भी शामिल होकर सरकार के खिलाफ रोष जताएंगे. इसके लिए गांव स्तर पर कमेटियों का गठन किया जाएगा. यह निर्णय फौगाट खाप की कार्यकारिणी की दादरी के स्वामी दयाल धाम पर हुई मीटिंग में लिया गया.

खाप प्रधान बलवंत नंबरदार की अध्यक्षता में हुई मीटिंग में कई फैसले लिए गए. करीब दो घंटे चली मीटिंग में कृषि कानूनों को लेकर सरकार के खिलाफ लंबी व आर-पार की लड़ाई लड़ने की रणनीति बनाई गई. खाप प्रतिनिधियों ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि अब खापों की अगुआई में किसानों द्वारा आंदोलन को तेज किया जाएगा.

काला दिवस मनाएंगे किसान

वहीं 27 मई को किसान आंदोलन के 6 माह पूरे होने पर कितलाना टोल पर भिवानी व दादरी के किसानों द्वारा काला दिवस मनाया जाएगा. काला दिवस को लेकर खाप के प्रत्येक गांव में कमेटियों का भी गठन करते हुए ड्यूटियां लगाई गई हैं. प्रत्येक गांव से महिलाओं की भी भागीदारी सुनिश्चित की गई है. खाप प्रधान बलवंत नंबरदार ने बताया कि फौगाट खाप की कार्यकारिणी मीटिंग में काला दिवस मनाने को लेकर रणनीति बनाई और खाप के प्रत्येक गांव में कमेटियां बनाकर ड्यूटियां लगाई गई हैं.
ये भी पढ़ें: Chhattisgarh: पहले ऑनलाइन बुक करो, फिर OTP दिखाओ और काउंटर पर जाकर ले लो शराब 

उन्होंने कहा कि सरकार अब किसान आंदोलन को खराब करके खत्म करवाना चाहती है. ऐसे में सरकार की मंशा को पूरा नहीं होने देंगे और आंदोलन की सफलता तक आर-पार की लड़ाई लड़ेंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज