रेप और सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ उत्तर भारत की सभी खापें एक मंच पर होंगी एकजुट

देशभर से करीब 70 हजार खाप प्रतिनिधि समाज में जागरूकता लाने के लिए मंथन करेंगे. इसके लिए क्षेत्र की सबसे बड़ी सांगवान खाप ने पहल की है.

Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: November 10, 2018, 1:45 PM IST
रेप और सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ उत्तर भारत की सभी खापें एक मंच पर होंगी एकजुट
बैठक करते खाप पंचायत के प्रतिनिधि
Pardeep Sahu
Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: November 10, 2018, 1:45 PM IST
रेप, दरिंदगी सहित सामाजिक कुरीतियों के विरोध में उत्तर भारत की सभी खाप पंचायतें एक मंच पर एकजुट होंगी. देशभर से करीब 70 हजार खाप प्रतिनिधि समाज में जागरूकता लाने के लिए मंथन करेंगे. इसके लिए क्षेत्र की सबसे बड़ी सांगवान खाप ने पहल की है. खाप द्वारा उत्तर भारत की सर्व जातिय और सर्वखाप महापंचायत का आयोजन किया जाएगा. चरखी दादरी के एससीआर स्कूल में 11 नवंबर को होने वाली महापंचायत में रेप की घटनाओं पर अंकुश लगाने, सुप्रीम कोर्ट के पंचायतों के प्रति दिए फैसलें सहित कई अहम मुद्दों पर फैसलें लिए जाएंगे.

सांगवान खाप के पदाधिकारियों ने चरखी दादरी में प्रेस वार्ता कर महापंचायत के बारे में जानकारी दी. खाप प्रधान सोमबीर सांगवान और सचिव नरसिंह डोहकी ने संयुक्त रूप से प्रेस वार्ता में कहा कि खाप द्वारा देश-प्रदेश में बढ़ रही रेप, दरिंदगी व अन्य अपराधिक घटनाओं को लेकर समाज में जागरूकता लाने की पहल की है. क्योंकि पिछले दिनों रेवाड़ी गैंग रेप मामले को लेकर समाज में गलत मैसेज गया है.

अब चौटाला परिवार के लिए चुनाव प्रचार करेंगी दंगल गर्ल्स

सांगवान खाप द्वारा रेप जैसे जघंन्य अपराध पर रोक लगाने सहित सामाजिक बुराइयों को खत्म करने के लिए उत्तर भारत की सर्वखापों को एकजुट किया जाएगा. जिसको लेकर सांगवान खाप 11 नवंबर को चरखी दादरी के एससीआर स्कूल में सर्व जातिय, सर्वखाप महापंचायत का आयोजन करेगी. इस दौरान महापंचायत को लेकर खाप पदाधिकारियों की ड्यूटियां भी सुनिश्चित की गई.

खाप द्वारा कन्नी प्रधानों की बनाई गई कमेटी द्वारा सर्व खापों को निमंत्रण दिया गया है. खाप नेताओं ने बताया कि सर्वजातिय व सर्वखाप महापंचायत में देश भर से करीब 70 हजार खाप प्रतिनिधि समाज में जागरूकता लाने के लिए मंथन करेंगे. दूर-दराज से आने वाले खाप प्रतिनिधियों के रहने व खाने की भी व्यवस्था खाप द्वारा की गई है.

खाप नेताओं के अनुसार खाप पंचायतों द्वारा सामाजिक मुद्दों को लेकर जनहित में जागरूकता कार्यक्रम किए जा रहे हैं. इसी कड़ी में पंचायत में मृत्यु भोज पर रोक, गावों में अवैध शराब की बिक्री पर रोक, दहेज न लेने और समाज में महिलाओं के प्रति हो रहे दुष्कर्म न हो इसके लिए युवाओं को अच्छे बुरे के लिए जागरूक करके समाज में फैलती जा रही बुराइयों पर रोकथाम लगाने के भी निर्णय लिए जाएंगे.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर