थम नहीं रहा स्वाइन फ्लू का कहर, अब चरखी दादरी में गर्भवती महिला की मौत

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

परिजनों का कहना है कि पीजीआई में टेस्ट के नाम पर उनसे पैसे लिए गए हैं. स्वाइन फ्लू से गर्भवती महिला की मौत होने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने भी जांच शुरू कर दी है.

  • Share this:
दादरी जिले के ग्रामीण व शहरी क्षेत्र में स्वाइन फ्लू का कहर थम नहीं रहा है. हर अंतराल बाद नए लोग इस बीमारी की चपेट आ रहे हैं. पिछले कई दिनों से रोहतक पीजीआई में उपचाराधीन दादरी जिले के गांव बिजना निवासी मोनिका की मौत हो गई. मोनिका गर्भवति थी और उसे कुछ रोज पूर्व दादरी के सरकारी अस्पताल के चिकित्सकों द्वारा उसकी गंभीर हालत को देखते हुए रोहतक पीजीआई रेफर किया गया था.

पीजीआई में उपचार के दौरान हुई मौत के बाद परिजनों ने चिकित्सकों पर ही आरोप लगाए हैं. परिजनों का कहना है कि पीजीआई में टेस्ट के नाम पर उनसे पैसे लिए गए हैं. स्वाइन फ्लू से गर्भवती महिला की मौत होने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने भी जांच शुरू कर दी है.

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बुधवार को गांव बिजना में मृतका के घर जाकर परिजनों का चेकअप किया और पूरे मामले की जानकारी ली. टीम द्वारा परिवार सदस्यों को दवाइयां भी दी गई. विभाग की मानें तो स्वाइन फ्लू से अब तक जिले में दो की मौत हो चुकी है.



डिप्टी सिविल सर्जन डा. मुनेश ने बताया कि वायरस पर नियंत्रण व रोकथाम के लिए विशेष एडवाइजरी भी जारी की गई है. उन्होंने बताया कि गांव बिजना निवासी एक महिला की रोहतक पीजीआई में स्वाइन फ्लू के कारण मौत हुई है. उनके पास सूचना आते ही गांव में टीम पहुंची और परिजनों की जांच कर उनको दवाइयां दी गई हैं.
डॉ. चंचल ने बताया कि परिजनों का आरोप है कि पीजीआई में टेस्ट के नाम पर पैसे लिए हैं. इस संबंध में उन्होंने उच्चाधिकारियों को रिपोर्ट भेज दी है. उन्होंने बताया कि अभी तक सामने आए स्वाइन फ्लू के सभी संदिग्ध मामलों की जांच रोहतक पीजीआई में सैंपल भेजेंगे. इसकी रिपोर्ट आने के बाद ही इस संबंध में पुष्टि की जा सकेगी.

यह भी पढ़ें - सोहना में दिन दहाड़े युवक का अपहरण, आरोपियों की तलाश में जुटी पुलिस

यह भी देखें - PHOTOS: कभी रिक्शा चलाने को मजबूर हो गया था ये किसान, ऐसे बना करोड़पति
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज