लाइव टीवी

लोकसभा चुनाव: सट्टा बाजार पर चढ़ा ‘सियासी’ बुखार, किसकी बनेगी सरकार!

Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: May 8, 2019, 2:13 PM IST
लोकसभा चुनाव: सट्टा बाजार पर चढ़ा ‘सियासी’ बुखार, किसकी बनेगी सरकार!
प्रतिकात्मक तस्वीर

सट्टा बाजार का एक ट्रेंड होता है कि जो पार्टी जितनी कमजोर होती है या जिसके जीतने की संभावनाएं जितनी कम होती हैं, उसका भाव उतना ही अधिक होता है.

  • Share this:
प्रदेश में जहां गर्मी का असर बढऩे से तपन बढ़ रही है और पारा लगातार बढ़ता जा रहा है, उसी तर्ज पर चुनाव के अंतिम दौर में पहुंचने से सियासी पारा गर्मी की अपेक्षा ज्यादा चढ़ा हुआ है. चुनाव को लेकर रोजाना सट्टा बाजार के भाव उम्मीदवारों और उनके समर्थकों की धड़कन ऊपर-नीचे किए हुए हैं. इसके साथ ही राजनीतिक विश्लेषक भी इन भावों पर निगाह जमाए बैठे हैं.

भिवानी-महेंद्रगढ़ संसदीय सीट को लेकर सट्टा बाजार पर भी ‘सियासी’ बुखार चढ़ा है. इस सीट पर स्टोरिये जहां प्रत्याशियों की हार-जीत पर गेम खेल रहे हैं वहीं हरियाणा में कौन पार्टी कितनी सीटें जीतेगी और देश में कौन पार्टी सरकार बनाएगी पर भी सट्टा लगाया जा रहा है.

सट्टा बाजार का एक ट्रेंड होता है कि जो पार्टी जितनी कमजोर होती है या जिसके जीतने की संभावनाएं जितनी कम होती हैं, उसका भाव उतना ही अधिक होता है. कुछ ऐसा ही इन दिनों हरियाणा की राजनीति में भी देखने को मिल रहा है. चुनावों के मौसम में सट्टा बाजार में हलचल बढऩे लगी हैं. देश की सबसे बड़ी सट्टा मार्केट के नाम से भिवानी को जाना जाता है. यहां से सट्टा का गंदा खेल शुरू होकर दादरी, महेंद्रगढ़ तक पहुंच चुका है. इस सट्टा बाजार में फिलहाल भाजपा, कांग्रेस और अन्य पार्टियों ने अपने भाव जारी किए हैं. अब बारी है जनता की ओर से बोलियां लगने यानी वोट देने की.

राजनीतिक दलों के मुखिया हो या फिर कोई अन्य नेता, आजकल सट्टा बाजार के घटत-बढ़त भी उनके मुंह पर आ ही जाते हैं. टिकट वितरण, नाम वापसी के साथ बड़े नेताओं की सभाओं और उनके भाषणों के चलते बाजार में उतार-चढ़ाव आता रहा है.

सूत्रों के अनुसार सट्टा बाजार में कांग्रेस और भाजपा को लेकर उतार-चढ़ाव देखने को मिल रहा है. प्रचार के अंतिम दौर में नेताओं की रैलियों और सभाओं की संख्या बढ़ रही है. ऐसे में सीटों में बदलाव की संभावना से सट्टा बाजार के लोग इंकार नहीं कर रहे हैं. सट्टा बाजार से जुड़े लोगों का कहना है कि 10 या 11 मई को एक बार और भाव खुल सकता है.

ये भी पढ़ें-

कभी दीपेंद्र हुड्डा के साथ एक ही गाड़ी में घूमते थे अरविंद शर्मा, अब दे रहे टक्करभूपेंद्र सिंह हुड्डा: कुरुक्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी, समर्थक इन्हें कहते हैं भूमि पुत्र

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चरखी दादरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 8, 2019, 2:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर