लाइव टीवी

मनु भाकर ने 1 साल में जीते 22 पदक, फिर भी प्रधानमंत्री बाल शक्ति पुरस्कार के लिए नहीं हुआ चयन
Charkhi-Dadri News in Hindi

Pardeep Sahu | News18 Haryana
Updated: January 23, 2020, 1:28 PM IST
मनु भाकर ने 1 साल में जीते 22 पदक, फिर भी प्रधानमंत्री बाल शक्ति पुरस्कार के लिए नहीं हुआ चयन
शूटर मनु भाकर का प्रधानमंत्री बाल शक्ति पुरस्कार के चयन नहीं होने पर पिता ने जताई नाराजगी

सोशल मीडिया (Social Media) पर अपना दर्द बयां करते हुए मनु भाकर (Manu Bhakar) के पिता ने कहा है कि एक साल में 22 मेडल लेने वाले खिलाड़ी को चयन मामले में इग्नोर किया गया, जबकि मंत्रालय में रिश्तेदारों के बच्चों को पुरस्कार के लिए चयन कर लिया गया.

  • Share this:
चरखी दादरी. अंतरराष्ट्रीय शूटर मनु भाकर (Manu Bhakar) का प्रधानमंत्री बाल शक्ति पुरस्कार (Prime Minister Bal Shakti Award) के चयन नहीं होने पर उसके पिता रामकिशन भाकर ने नाराजगी जताई है. सोशल मीडिया (Social Media) पर अपना दर्द बयां करते हुए मनु के पिता ने कहा है कि एक साल में 22 मेडल लेने वाले खिलाड़ी को चयन मामले में इग्नोर किया गया, जबकि मंत्रालय में रिश्तेदारों के बच्चों को पुरस्कार के लिए चयन कर लिया गया. उन्होंने सरकार के पारदर्शिता पर भी सवाल उठाए हैं.

बता दें कि इस साल भारतीय बाल कल्याण परिषद (आईसीडब्ल्यू) ने असाधारण बहादुरी के लिए दिए जाने वाले पुरस्कारों के लिए 26 बच्चों को चुना, जिनमें हरियाणा से 6 खिलाड़ी शामिल हैं. अंतरराष्ट्रीय महिला शूटर मनु भाकर के पिता रामकिशन भाकर ने पुरस्कार की चयन प्रक्रिया पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी और राष्ट्रपति को ट्वीट कर अपनी नाराजगी जाहिर की.

महिला शूटर के पिता का कहना है कि मनु ने पुरस्कार के लिए समय से आवेदन किया था और वह सभी नॉर्मस को पूरा करती हैं. पिछले एक साल के दौरन मनु ने 9 नेशनल और 12 इंटरनेशनल पदक प्राप्त कर देश का नाम अंतरराष्ट्रीय पटल पर चमकाया है. एक साल में 21 पदक जीतने के बाद भी पुरस्कार के लिए चयन न होना समझ से परे हैं.

मनु भाकर


भेदभाव के लगाए आरोप

रामकिशन भाकर ने बताया कि मनु प्रधानमंत्री बाल शक्ति पुरस्कार के लिए चयन होना समझ से परे है. क्योंकि मंत्रालय में अपने रिश्तेदारों के बच्चों के नाम इस पुरस्कार के लिए शामिल किए गए हैं. यह परदर्शिता कैसे हुई जो भेदभाव किया जा रहा है. उन्होंने महिला एवं बाल विकास मंत्री कार्यालय में कई बार इस संबंध में संपर्क भी किया लेकिन कोई सकारात्मक जवाब नहीं मिला.

चयन प्रक्रिया से नहीं संतुष्टउन्होंने कहा कि चयन प्रक्रिया से वो कतई संतुष्ट नहीं है. तीन साल के कैरियर में मन्नु ने 60 पदक नेशनल और इंटरनेशनल लेवल पर जीते हैं. प्रधानमंत्री बाल शक्ति पुरस्कार के लिए नेशनल स्तर पर गोल्ड और आयु 18 वर्ष से कम होना जरूरी है और इन मानकों को मनु पूरा कर रही है.

ये भी पढ़ें-अस्पताल पर आरोप: रात भर शव का इलाज करते रहे डॉक्टर, सुबह परिजनों को थमाया 53 हजार का बिल

यमुनानगर: हवालात का ताला खोलकर फरार हुए दो चोर, ASI समेत तीन पुलिसकर्मी सस्पेंड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चरखी दादरी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 23, 2020, 1:27 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर