दिल्ली से दादरी पहुंची कोरोना पॉजिटिव महिला ने वेंटिलेटर सुविधा नहीं मिलने पर तोड़ा दम

दिल्ली की एक महिला की दादारी में वेंटिलेटर नहीं मिलने की वजह से मौत हो गई.

दिल्ली की एक महिला की दादारी में वेंटिलेटर नहीं मिलने की वजह से मौत हो गई.

दिल्ली (Delhi) में वेंटिलेटर नहीं मिलने की वजह से एक कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) महिला हरियाणा के दादरी (Dadri) में इलाज के लिए पहुंच गई. लेकिन, यहां भी उसे वेंटिलेटर नहीं मिल सका. जिसके चलते महिला की मौत (Death) हो गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 28, 2021, 2:48 PM IST
  • Share this:
चरखी दादरी. दिल्ली (Delhi) में बेड और वेंटिलेटर (Ventilator) नहीं मिलने से परेशान होकर इलाज के लिए दादरी पहुंची कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) महिला को यहां भी वेंटिलेट नहीं मिला. ऑक्सीजन सुविधा नहीं मिलने से महिला ने आखिरकार दम तोड़ दिया.परिजनों ने स्वास्थ्य विभाग पर वेंटिलेटर नहीं देने के आरोप लगाए हैं. वहीं महिला के परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए भी दिनभर भटकना पड़ा. हालांकि स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि महिला की हालत वेंटिलेटर पर रखने के लायक नहीं थी. जब तक उसे बेड तक ले जाया गया, महिला की मौत हो चुकी थी.

बता दें कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा दादरी जिला के कोविड सेंटरों में 11 वेंटिलेटर बेड लगाए गए हैं. दिल्ली के नांगलोई क्षेत्र की कोरोना पॉजिटिव महिला के परिजनों ने दिल्ली के साथ लगते बहादुरगढ़ में वेंटिलेटर सुविधा नहीं मिलने पर आस लेकर दादरी में लेकर पहुंचे थे. जहां चिकित्सकों ने कुछ देर बाद ही महिला को मृत घोषित कर दिया.

Oxygen सिलेंडर ले जा रही गाड़ी को पुलिस ने रातभर चौकी में रखा, समय पर ऑक्सीजन नहीं मिल पाने से मरीज की मौत

परिजनों ने आरोप है कि वे वेंटिलेटर की आस में दिल्ली से बहादुरगढ़ तक घूमे, लेकिन वेंटिलेटर नहीं मिला. किसी जानकार से पता करके देर रात दादरी के सिविल अस्प्ताल में पहुंचे तो वेंटिलेटर पर नहीं रखा गया, जिसके चलते महिला ने दम तोड़ दिया. अगर समय पर वेंटिलेटर सुविधा मिल जाती तो महिला की जान बच सकती थी. हालांकि स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि महिला की हालत ज्यादा खराब थी. चेकअप करने के बाद वेंटिलेटर बेड तक ले जाते ही महिला ने दम तोड़ दिया.
मृतक के परिजन पवन कुमार ने बताया कि वे दो दिन से दिल्ली और हरियाणा के अस्पतालों के चक्कर काट रहे हैं. बावजूद इसके ना तो बेड सुविधा मिली और ना ही वेंटिलेटर मिला. ऐसे में उनके परिजन ने सिविल अस्पताल में दम तोड़ दिया.

वहीं डिप्टी सीएमओ व कोविड इंचार्ज डॉ. गौरव ने बताया कि महिला की हालत खराब थी, उसका चेकअप करने के दौरान वेंटिलेटर पर ले जाने से पहले ही मौत हो गई थी. जिला के कोविड अस्पताल में 11 वेंटिलेटर इंस्टाल किए जा चुके हैं. उन्होंने बताया कि वेंटिलेटर के लिए फिजिशियन नहीं होने के कारण दिक्कतें आ रही हैं. इस संबंध में मुख्यालय को अवगत करवाया जा चुका है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज