झेलम एक्सप्रेस में सफर कर रहे आधा दर्जन यात्रियों की पीटा, तीन को नरेला में फेंका

उन्होंने बताया कि जिन यात्रियों को धक्का देने की बात कही जा रही थी वह भी करीब दो घंटे बाद फरीदाबाद पहुंच गए थे. उनको भी मामूली चोटें आई थी. जब सब्जी मंडी पुलिस घटना की जांच करेगी.

deepak kumar | News18 Haryana
Updated: August 9, 2019, 1:00 PM IST
झेलम एक्सप्रेस में सफर कर रहे आधा दर्जन यात्रियों की पीटा, तीन को नरेला में फेंका
ट्रेन में सफर कर रहे यात्रियों को पीटा
deepak kumar | News18 Haryana
Updated: August 9, 2019, 1:00 PM IST
फरीदाबाद में जम्मूतवी से चलकर पुणे जाने वाली झेलम एक्सप्रेस में सफर कर रहे आधा दर्जन यात्रियों के साथ शरारती तत्वों द्वारा बुरी तरह पिटाई कर घायल करने और तीन यात्रियों को धक्का देकर नीचे गिराने का मामला सामने आया है. घटना सोनीपत और नरेला स्टेशन के बीच की है. सूचना मिलने पर फरीदाबाद पहुंची ट्रेन को रोककर पीड़ित यात्रियों को ट्रेन से उतारा गया और उन्हें प्राथमिक उपचार दिलाया गया.

जीआरपी ने जीरो एफआईआर दर्ज कर सब्जी मंडी थाने भेज दिया है. जीआरपी के मुताबिक दोनों पक्षों में मारपीट सीट पर बैठने को लेकर हुई थी. हमलावर सोनीपत से ट्रेन में सवार हुए थे. जानकारी के अनुसार ग्वालियर निवासी रामेश्वर मीना, प्रेम नारायण नागर, फूलचंद नागर 15 दिन पहले साइकिल से वैष्णो देवी की यात्रा पर गए थे. वापसी में थकावट होने के कारण वह अपने अन्य साथियों दीपक ओझा, अनिल ओझा, ज्योति ओझा, शिवम, विनोद और देवेंद्र नरनरिया के साथ 11078 झेलम एक्सप्रेस से ग्वालियर घर जा रहे थे. सभी जनरल कोच में सवार थे. ट्रेन बुधवार सुबह करीब 8.35 बजे सोनीपत पहुंची. यात्रियों ने बताया कि वहां करीब आधा दर्जन से अधिक लोग जनरल कोच में चढ़ गए और जबरन सीट खाली कराने लगे.

विरोध करने पर लात घूसों से पिटाई कर किया घायल

घायल यात्री रामेश्वर मीना, प्रेम नारायण नागर, फूलचंद आदि ने बताया कि हमला करने वाले लोग उनकी सीट पर जबरन बैठने का प्रयास कर रहे थे. जबकि उस सीट पर पहले से ही पांच लोग बैठे हुए थे. जब सीट पर जगह न हाेने की बात कर बैठाने से इंकार कर दिया तो हमलावरों ने एकजुट होकर उन पर टूट पड़े. लात घूसों से मारपीट कर घायल कर दिया. उनका ये भी कहना है कि हमलावर उनके पैर पर चढ़कर पिटाई कर रहे थे.

तीन यात्रियों को धक्का देकर नीचे गिराया

यात्रियों का ये भी कहना था कि हमलावरों ने उनके तीन साथी शिवम ओझा, विनोद ओर देवेंद्र नरनरिया को नरेला स्टेशन के पास चलती ट्रेन से धक्का देकर गिरा दिया. उनका कहना था कि हमलावर करने वाले सोनीपत  और नरेला के बीच के रहने वाले थे. क्योंकि उनकी बोली लोकल लग रही थी. हैरानी की बात ये है कि उक्त ट्रेन नई दिल्ली स्टेशन पर 10 मिनट से अधिक समय तक खड़ी रही लेकिन किसी जीआरपी और आरपीएफ ने न तो कोच को चेक किया और न ही यात्रियों की मदद की.

यात्रियों को उतारकर दिलवाई मेडिकल सुविधा
Loading...

सूचना मिलने पर डिप्टी एसएस डीएस भंडारी ने घटनी की जानकारी आरपीएफ और जीआरपी को दी. साथ ही ट्रेन को प्लेटफार्म नंबर एक पर लिया. करीब 11.20 बजे ट्रेन ओल्ड फरीदाबाद स्टेशन पहुंची. आरपीएफ और जीआरपी कर्मियों ने यात्रियों को ट्रेन से उतारा और उन्हें मेडिकल सुविधा उपलब्ध कराई. इस दौरान करीब पांच मिनट तक ट्रेन खड़ी रही.

जीआरपी ने दर्ज की जीरो एफआईआर

जांच अधिकारी राजपाल ने बताया कि यात्रियों की शिकायत पर जीरो एफआईआर दर्ज कर सब्जी मंडी को भेज दिया गया है. उन्होंने बताया कि जिन यात्रियों को धक्का देने की बात कही जा रही थी वह भी करीब दो घंटे बाद फरीदाबाद पहुंच गए थे. उनको भी मामूली चोटें आई थी. जब सब्जी मंडी पुलिस घटना की जांच करेगी.

ये भी पढ़ें - सोनीपत में कार और ट्रक की टक्कर, 3 युवकों की मौत, एक घायल

ये भी पढ़ें - दोस्त से कहा- मेरी पत्नी को परेशान करना छोड़ दे, नहीं माना तो कर दी हत्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए फरीदाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 9, 2019, 1:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...