Ballabgarh Murder Case: भारी पुलिस बल की मौजूदगी में हुआ निकिता का अंतिम संस्कार, पिता और भाई ने दी मुखाग्नि

बल्लभगढ़ में छात्रा की गोली मारकर हत्या
बल्लभगढ़ में छात्रा की गोली मारकर हत्या

Nikita Murder Case: भारी पुलिस बल की मौजूदगी में निकिता का शव पोस्टमार्टम होने के बाद अंतिम संस्कार के लिए रवाना किया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 28, 2020, 1:59 PM IST
  • Share this:
फरीदाबाद. तौसीफ की गोली का शिकार हुई निकिता के शव का मंगलवार शाम 6:05 बजे सेक्टर-23 स्थित श्मशान घाट में अंतिम संस्कार (Cremation) किया गया. मृतका के भाई नवीन व पिता मूलचंद तोमर ने मुखाग्नि दी. इस दौरान भारी संख्या में पुलिसबल मौजूद रहा. घटना के बाबत सीएम मनोहर लाल ने कहा है कि आरोपितों को गिरफ्तार (Arrest) कर लिया गया है और उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. बता दें कि बल्‍लभगढ़ हत्‍याकांड के बाद से ही पुलिस और प्रशासन हरकत में है. इसको लेकर सुरक्षा व्‍यवस्‍था को बेहद सख्‍श्‍त कर दिया गया है, ताकि हालात पर नियंत्रण रखा जा सके. स्‍थानीय पुलिस और प्रशासन ने स्थिति की संवेदनशीलता को देखते हुए सतर्कता बरत रहा है. मालूम हो कि बल्‍लभगढ़ हत्‍याकांड से मुख्‍य आरोपी तौसीफ समेत एक अन्‍य को गिरफ्तार किया जा चुका है.

जान गंवाने वाली निकिता के पिता का कहना है कि आरोपित तौसीफ जबरदस्ती कार में बैठाना चाहता था. इनकार करने पर बेटी को गोली मार दी. इससे पहले मंगलवार दोपहर में पुलिस ने हत्‍याकांड के दूसरे आरोपी रेहान को भी नूंह से गिरफ्तार कर लिया था. इससे पहले सोमवार देर रात को मुख्य आरोपित तौसीफ को पुलिस ने नूंह से गिरफ्तार किया था.

निकिता की अंतिम यात्रा घर से ही निकाली गई. प्रशासन चाहता था कि शव को घर न ले जाया जाए, लेकिन परिजनों की अपील पर कुछ देर के लिए शव को घर पर रखा गया. विवाद बढ़ न जाए इसलिए प्रशासन जल्द से जल्द अंतिम संस्कार कराना चाहता था. मृतका के भाई नवीन ने बताया कि शुरुआत में शव को केवल घर के पास स्थित टी-प्वाइंट तक ही लाने की अनुमति मिली थी. देर शाम अंतिम क्रिया में भी समस्या हो सकती थी, लेकिन प्रशासन ने उनके परिवार की अपील मानी और कुछ देर के लिए शव को घर ले जाया गया.



भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद रहा
करीब 15 मिनट घर में रीति रिवाज पूरी करने के बाद शव यात्रा को सेक्टर-23 स्थित श्मशान ले जाया गया. सैकड़ों लोग अंतिम यात्रा में शामिल हुए. यहां नवीन व निकिता के पिता मूलचंद ने शव को मुखाग्नि दी. इस दौरान अतिरिक्त पुलिस आयुक्त राजीव कुमार सहित भारी संख्या में पुलिस बल मौजूद रहे



कई संगठनों ने मामले को देना चाहा धार्मिक रूप

निकिता हत्याकांड को कुछ संगठनों ने धार्मिक रूप देने की कोशिश की है. हालांकि, पुलिस अधिकारियों के साथ ही पीड़ित परिजनों ने भी बात सिरे से नकार दी. परिजनों का कहना था कि प्यार का कोई मामला नहीं था. हां, हत्यारोपी तौसीफ की मां निकिता को फोन करके परेशान करती थी कि वह धर्म परिवर्तन कर ले, जबकि निकिता ऐसा बिलकुल नहीं चाहती थी. इसी वजह से वह परेशान रहती थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज