हरियाणा विधानसभा ने पास किया निजी कंपनियों में राज्‍य के 75 % युवाओं को नौकरी देने वाला आरक्षण विधेयक, जानें पूरा मामला

हरियाणा सरकार ने निजी क्षेत्र में स्थानीय लोगों को नौकरी में आरक्षण का एजेंडा तैयार किया है.
हरियाणा सरकार ने निजी क्षेत्र में स्थानीय लोगों को नौकरी में आरक्षण का एजेंडा तैयार किया है.

हरियाणा के स्थानीय युवाओं को राज्य की निजी कंपनियों में 75 फीसदी आरक्षण (75 Percent Reservation In Private Jobs) देने वाला विधेयक हरियाणा विधानसभा (Haryana Assembly) में पास हो गया है.

  • Share this:
फरीदाबाद. हरियाणा के स्थानीय युवाओं को राज्य की निजी कंपनियों में 75 फीसदी आरक्षण (75 Percent Reservation In Private Jobs) देने वाला विधेयक हरियाणा विधानसभा (Haryana Assembly) में पास हो गया है. इसको लेकर हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) ने कहा, 'हम उम्मीद करते हैं कि जल्द महामहिम भी इस पर स्वीकृति देंगे और हरियाणा में आने वाले समय में जितना भी रोजगार आएगा उसके अंदर हम हमारे युवाओं को तीन चौथाई आरक्षण दे पाएंगे.

दरअसल हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने डेढ़ लाख युवाओं को रोजगार का सपना दिखाया था, जो कि अब हकीकत में बदलने जा रहा है. हालांकि निजी कंपनियों में स्थानीय युवाओं को रोजगार में 75 फीसदी आरक्षण के फैसले से उद्योगपति नाराज हैं. ऐसे में बड़ा सवाल यही है कि इन शर्तों के साथ कोई कंपनी यहां निवेश करने में कितनी दिलचस्पी दिखाएगी. निजी क्षेत्र में स्थानीय लोगों को नौकरी में आरक्षण का एजेंडा जन नायक जनता पार्टी का था, जिसकी मदद से बीजेपी की मनोहर लाल खट्टर सरकार चल रही है.
बहरहाल, डिप्टी सीएम ने जिन कंपनियों के भरोसे डेढ़ लाख युवाओं के लिए रोजगार के अवसर की बात कही, उन्होंने अभी निवेश किया नहीं है, बल्कि निवेश के लिए सिर्फ उत्साह दिखाया है. साल 2016 में गुरुग्राम में जो इनवेस्टर्स समिट करवाई गई थी उसमें तो 6 लाख करोड़ के निवेश का प्रस्ताव मिल चुका था, लेकिन उसमें से कितनी कंपनियां लग गईं हैं, सरकार ने इसका जिक्र आज तक नहीं किया.





निवेश के लिए सरकार का तर्क
डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला का कहना है कि यहां उद्योगों को स्थापित करने के लिए माहौल अनुकूल है. इज ऑफ डूइंग बिजनेस के मामले में हरियाणा उत्तर भारत में पहले तथा देश में तीसरे स्थान पर है. अच्छी कनेक्टिविटी है. उद्योगों को विकसित करने के लिए 34 इंडस्ट्रियल इस्टेट तैयार हैं, जिनमें से फरीदाबाद, बावल, मानेसर, पानीपत एवं गुरूग्राम में अलग-अलग प्रकार के 1100 से अधिक औद्योगिक प्लॉट हैं. आईएमटी सोहना में 1500 एकड़ तथा खरखौदा में 3000 एकड़ भूमि को उद्योग लगाने के लिए तैयार किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज