लाइव टीवी

DCP विक्रम कपूर सुसाइड केस: हनीट्रैप में फंसाकर 2 करोड़ मांग रहा था SHO

News18 Haryana
Updated: August 17, 2019, 3:02 PM IST
DCP विक्रम कपूर सुसाइड केस: हनीट्रैप में फंसाकर 2 करोड़ मांग रहा था SHO
फरीदाबाद - एसएचओ ने अपनी एक महिला मित्र के जरिए डीसीपी को हनीट्रैप में लिया था.

आत्महत्या करने वाले डिप्टी पुलिस कमिश्नर को हनीट्रैप में लिया गया था. उन्हें एक वीडियो के जरिए ब्लैकमेल करते हुए उनसे भुपानी पुलिस स्टेशन के एसएचओ अब्दुल शाहिद द्वारा 2 करोड़ रुपयों की मांग की जा रही थी.

  • Share this:
हरियाणा के फरीदाबाद के डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस  (DCP) विक्रम कपूर की आत्महत्या की जांच के दौरान पता चला है कि उन्हें भुपानी पुलिस स्टेशन के एसएचओ अब्दुल शाहिद द्वारा ब्लैकमेल किया जा रहा था. बताया जा रहा है कि डिप्टी पुलिस कमिश्नर को हनीट्रैप में लिया गया था और उन्हें एक वीडियो के जरिए ब्लैकमेल करते हुए एसएचओ अब्दुल शाहिद उनसे 2 करोड़ रुपयों की मांग कर रहा था. बता दें कि पुलिस कमिश्नर ने पुलिस लाइन स्थित अपने आवास पर अपने सर्विस रिवॉल्वर से खुद को गोली मारकर जान दे दी थी.

मामले में नाम सामने आने के बाद गुरुवार को एसएचओ अब्दुल शाहिद को गिरफ्तार कर लिया गया था. घटना की जांच कर रही पुलिस को घटनास्थल से एक नोट मिला था जिसमें लिखा हुआ था - '' मैं ऐसा इंस्पेक्टर अब्दुल की वजह से कर रहा हूं ... वह मुझे ब्लैकमेल कर रहा था - विक्रम '' शुक्रवार को एसएचओ अब्दुल शाहिद को नौकरी से सस्पेंड कर दिए जाने के बाद उसे स्थानीय कोर्ट में पेश किया गया. यहां से उसे चार दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है.

एसएचओ ने महिला मित्र और रिपोर्टर का इस्तेमाल किया

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एसएचओ ने अपनी एक महिला मित्र के जरिए डीसीपी को हनीट्रैप में लिया था. महिला ने डीसीपी के साथ खुद का वीडियो शूट कर लिया था. फिर एसएचओ इसी वीडियो के जरिए डीसीपी को ब्लैकमेल करने लगा था. डीसीपी से एसएचओ 2 करोड़ रुपयों की मांग कर रहा था. लेकिन डीसीपी इतनी बड़ी रकम देने में असमर्थ थे. डीसीपी खुद को बख्श दिए जाने के लिए गिड़गिड़ाते रहे मगर एसएचओ उन्हें फोन पर भद्दी गालियां दिया करता था.

फरीदाबाद NIT के डीसीपी विक्रम कपूर ने बुधवार तड़के अपने आवास पर गोली मारकर खुदकुशी कर ली थी


इतना ही नहीं डीसीपी पर और ज्यादा दबाव बनाने के लिए एसएचओ ने सतीश मलिक नामक एक रिपोर्टर को भी इस्तेमाल किया. 'मजदूर मोर्चा' का रिपोर्टर सतीश मलिक ने करीब दो माह पहले डीसीपी पर कुछ गंभीर आरोप लगाते हुए दो लेख छापे थे. छापी गई रिपोर्ट में डीसीपी विक्रम कपूर पर शराब माफिया के साथ गठजोड़ होने का आरोप लगाया गया था. जानकारी के अनुसार रिपोर्टर सतीश घटना के बाद से फरार चल रहा है.

'दी टाइम्स ऑफ इंडिया' में छपी खबर के अनुसार फरीदाबाद के पुलिस प्रवक्ता सुबे सिंह ने डीसीपी को ब्लैकमेल किए जाने के कारणों को विस्तार से नहीं बताया. उन्होंने कहा कि यह मामला एक सीनियर पुलिस अधिकारी से जुड़ा हुआ है. इसकी जांच के लिए स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम (SIT) का गठन किया गया है. मामले की जांच की जा रही है. बता दें कि इस एसआईटी (अपराध) का नेतृत्व एसीपी अनिल यादव कर रहे हैं. उनकी टीम में सेक्टर 30 के इंस्पेक्टर इंचार्ज विमल राय, सब-इंस्पेक्टर रविंद्र कुमार और सब-इंस्पेक्टर सतीश कुमार हैं.
Loading...

ये भी पढ़ें- पहली बार आया तो 47 सीटें मिलीं, फिर आया हूं अब 75 पार: शाह

मॉब लिंचिंग: ‘घर-जमीन सब बिक जाए लेकिन न्याय लेकर रहेंगे'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए फरीदाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 17, 2019, 1:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...