होम /न्यूज /हरियाणा /गुरुग्राम में फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 2250600 रुपए के साथ 17 लोग गिरफ्तार

गुरुग्राम में फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 2250600 रुपए के साथ 17 लोग गिरफ्तार

पुलिस ने कहा कि वे पीड़ितों से 500 से 1000 अमेरिकी डॉलर (38000 से 76 हजार ) रुपये तक वसूलते थे. (सांकेतिक फोटो)

पुलिस ने कहा कि वे पीड़ितों से 500 से 1000 अमेरिकी डॉलर (38000 से 76 हजार ) रुपये तक वसूलते थे. (सांकेतिक फोटो)

Haryana News: गिरफ्तार लोगों की पहचान देव प्रकाश, अनिरुद्ध अग्रवाल, अरशद शर्मा उर्फ ​​राहुल शर्मा, आशीष आनंद, गोविंद सि ...अधिक पढ़ें

गुरुग्राम. गुरुग्राम में पुलिस और उड़न दस्ते ने एक फर्जी कॉल सेंटर पर छापेमारी कर 17 लोगों को गिरफ्तार किया है. जबकि 149 अन्य कर्मचारियों को चेतावनी देकर छोड़ दिया. अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी. अधिकारियों ने बताया कि ‘कॉल सेंटर’ चार महीने पहले शुरू किया गया था और उसका संचालन उद्योग विहार फेज-4 में तीन मंजिला इमारत से किया जा रहा था.

उन्होंने कहा कि कॉल करने वाले खुद को अमेरिका की एक बहुराष्ट्रीय प्रौद्योगिकी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट का कर्मचारी बताकर अमेरिका और कनाडा के नागरिकों को ठगा करते थे. वे पीड़ितों को तकनीकी मदद, हार्डवेयर अपग्रेड कराने और एंटीवायरस डालने आदि के नाम पर ठगते थे. पुलिस ने कहा कि वे पीड़ितों से 500 से 1000 अमेरिकी डॉलर (38000 से 76 हजार ) रुपये तक वसूलते थे.

 वे गुजरात और दिल्ली से संबंध रखते हैं
गिरफ्तार लोगों की पहचान देव प्रकाश, अनिरुद्ध अग्रवाल, अरशद शर्मा उर्फ ​​राहुल शर्मा, आशीष आनंद, गोविंद सिंह उर्फ ​​रिंकी, अनीस एंथनी, विक्रम कुमार शर्मा, शुभम सुनाम, सुमित, आयुष सिंघल, बाबू राजन, अभिलाष कुमार, शौविक सैनी, स्वर्णजीत सिंह, रामित विग, मनीष कुमार, नीमा वोंगडी के रूप में हुई है. पुलिस ने कहा कि वे गुजरात और दिल्ली से संबंध रखते हैं.

कंपनी के पास यह काम करने के लिये लाइसेंस नहीं था
उन्होंने कहा कि कॉल सेंटर से 22,50,600 रुपये नकद, छह लैपटॉप, तीन डेस्कटॉप, 18 मोबाइल फोन, एक पेन ड्राइव बरामद किया गया. मुख्यमंत्री के उड़न दस्ते के पुलिस उपाधीक्षक इंद्रजीत यादव और उद्योग विहार के सहायक पुलिस आयुक्त राजीव यादव के नेतृत्व में एक संयुक्त टीम ने कहा कि उन्होंने एक गुप्त सूचना के बाद छापेमारी की और कंपनी के पास यह काम करने के लिये लाइसेंस नहीं था.

लोन भरने की बात कहते थे
बता दें कि बीते मार्च महीने में भी गुरुग्राम पुलिस टीम ने फर्ज़ी कॉल सेंटर (Fake call center) का भंडाफोड़ करते हुए 9 महिलाओं समेत 38 लोगों को गिरफ़्तार किया था. गुरुग्राम के ACP, प्रीत पाल सिंह  ने कहा था कि साइबर पुलिस स्टेशन के SHO को इस बाबत सूचना मिली थी. एसीपी प्रीत पाल सिंह ने बताया था कि पुलिस को जानकारी मिली थी कि कुछ लोग एक फर्जी कॉल सेंटर चला रहे हैं जिसमें वो लोगों की फोटो को मॉर्फ करके उन्हें धमकी देते थे और लोन भरने की बात कहते थे.

Tags: Call Center, Faridabad News, Faridabad Police, Haryana news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें