Nikita Tomar Murder Case: दोषियों को सजा सुनाने से महज 18 घंटे पहले हुआ जज का तबादला

निकिता तोमर हत्याकांड मामले में 26 मार्च को सजा सुनाई जाएगी.  (फाइल)

निकिता तोमर हत्याकांड मामले में 26 मार्च को सजा सुनाई जाएगी.  (फाइल)

Nikita Tomar Murder Case: कोर्ट ने 24 मार्च को तौसीफ और रेहान को हत्या का दोषी ठहराया था और 26 मार्च को दोषियों को सजा सुनाई जानी है. जज के तबादले से अब असमंजस की स्थिति है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2021, 10:24 AM IST
  • Share this:
संदीप कुमार

फरीदाबाद. निकिता हत्याकांड (Nikita Tomar Murder Case) में शुक्रवार को दोषियों को सजा सुनाने वाले जज का फ़रीदाबाद (Faridabad) से रेवाड़ी तबादला कर दिया गया है. सजा सुनाने से महज़ 18 घंटे पहले जज का तबादला हुआ है. निकिता हत्याकांड मामले में 24 मार्च को तौसीफ और रेहान को कोर्ट ने हत्या का दोषी ठहराया था. हत्या के 151 दिन बाद शुक्रवार यानि 26 मार्च को दोनों को सजा सुनाई जानी थी. अब जज का तबादला होने के बाद शुक्रवार को फैसला सुनाया जाएगा या नहीं इसपर असमंजस की स्थिति है.

बता दें कि निकिता तोमर हत्याकांड में 12 मिनट में कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया था. फास्ट ट्रैक कोर्ट में आरोपी तौसीफ, रेहान और अजहरुद्दीन को शाम सवा चार बजे पेश किया गया था. बुधवार को सुने जाने वाले सभी मामलों में यह आखिरी केस था. सबसे पहले आरोपियों को तमंचा उपलब्ध कराने वाले अजहरुदीन को बरी कर दिया गया. साथ ही उससे सीआरपीसी की धारा 346 के तहत बेल बॉन्ड भरवाया गया.

55 गवाहों की गवाही पर सुनाया फैसला
गौरतलब है कि निकिता तोमर बीकॉम फाइनल ईयर की छात्रा थी. 26 अक्टूबर को उसे उस समय आई-10 कार से किडनैप करने की कोशिश की गई थी, जब वह बल्लबगढ़ में अग्रवाल कॉलेज से फाइनल एग्जाम देकर बाहर निकल रही थी. जब निकिता ने इसका विरोध किया तो आरोपियों ने उसे गोली मार दी. इस घटना में उसकी मौके पर ही मौत ही गई. यह पूरी घटना कॉलेज में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई. पुलिस ने इस मामले में जांच के दौरान तीन आरिपियों को गिरफ्तार किया था, जिसमें तौसीफ, रेहान और अजहरुद्दीन शामिल थे. इस मामले में करीब 55 गवाहों के बयान दर्ज किए गए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज