फरीदाबाद: अब चंदावली गांव में डोर टू डोर उठेगा कूड़ा, हर घर देगा एक रुपया

आदर्श गांव चंदावली में शहरी तर्ज पर डोर टू डोर कूड़ा उठाने की शुरुआत की गई.
आदर्श गांव चंदावली में शहरी तर्ज पर डोर टू डोर कूड़ा उठाने की शुरुआत की गई.

हरियाणा में शहर के तर्ज पर अब गांव में भी डोर टू डोर कूड़ा (Garbage) उठाया जाएगा. फरीदाबाद जिले के आदर्श गांव चंदावली (Chandawali Village) में रविवार को इसकी शुरुआत वेयरहाउस के चेयरमैन और पृथला के विधायक नयनपाल रावत (Nayanpal Rawat) ने कर दी. इसके लिए गांव के प्रत्येक घर से ₹1 रोजाना लिया जाएगा.

  • Share this:
फरीदाबाद. हरियाणा में शहर की तर्ज पर अब गांव में भी डोर टू डोर कूड़ा (Garbage) उठाया जाएगा. फरीदाबाद जिले (Faridabad District) के आदर्श गांव चंदावली (Chandawali Village) में रविवार को इसकी शुरुआत वेयरहाउस के चेयरमैन और पृथला के विधायक नयनपाल रावत (Nayanpal Rawat) ने कर दी. आदर्श गांव चंदावली में शहरी तर्ज पर डोर टू डोर कूड़ा उठाने की शुरुआत की गई है. इसके लिए गांव के प्रत्येक घर से ₹1 रोजाना लिया जाएगा. उसके बदले में हर घर से रोजाना कूड़ा उठाया जाएगा.

प्रदेश में बनाए जा रहे हैं 11 वेयरहाउस

इस मौके पर नयनपाल रावत ने दावा किया कि एक साल के अंदर प्रदेश के सभी वेयरहाउस का काम पूरा कर लिया जाएगा. प्रदेश में 11 नए वेयरहाउस बनाए जा रहे हैं, जिसके बाद खुले में गेहूं और धान खराब नहीं होगा. इसकी शुरुआत करते हुए नयनपाल रावत ने कहा कि प्रदेश में वेयरहाउस बनाने का काम तेजी से चल रहा है. वेयरहाउस बनने के बाद कहीं भी अनाज बाहर खुले में नहीं सड़ेगा. इसके अलावा सभी वेयरहाउस पर सीसीटीवी लगाने का भी काम करवाया जा रहा है.



Nayanpal Rawat
कूड़ा उठाने के बदले में गांव के प्रत्येक घर से ₹1 रोजाना लिया जाएगा.

गांव में कूड़ा उठाने का अभियान शुरू

गांव के सरपंच अंजू यादव के पिता गिरिराज यादव ने कहा कि गांव चंदावली शहर से सटा हुआ गांव है और जिस तरह से शहर में घर-घर से पूरा कूड़ा उठाया जा रहा है अब उनके यहां भी इस मुहिम की शुरुआत की गई है. ₹1 रोजाना प्रति घर वसूला जाएगा, उसके बदले में सफाई कर्मचारी हर घर पहुंचकर कूड़ा उठाएंगे.

यह भी पढ़ें: Indian Army के कर्नल राजेश सड़क हादसे में बुरी तरह से घायल, ड्राइवर की मौत

हरियाणा के 8600 प्राइवेट स्कूलों पर लगेगी लगाम, नहीं कर सकेंगे फीस बढ़ोतरी

पानीपत में RTI एक्टिविस्ट पी पी कपूर की कोशिशों से बच गई 2005 पेड़ों की जान

पति ने पत्नी और बेटी की बरछे से काट डाला, घरेलू कलह बनी मौत की वजह
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज