हरियाणा: बिना मैसेज फसल खरीदे जाने के सरकार के एलान के बाद किसान बेहद खुश

हरियाणा में किसानों के लिए सरकार ने बड़ा फैसला किया है.

हरियाणा में किसानों के लिए सरकार ने बड़ा फैसला किया है.

हरियाणा सरकार (Haryana Government) ने अब मैसेज सिस्टम को खत्म कर दिया गया है जिसके चलते किसानों (Farmers) को फायदा होगा. वह अपनी फसल कभी भी मंडी में लाकर बेच सकता है.

  • Share this:
फरीदाबाद. हरियाणा के फरीदाबाद जिले में मंडियों में अब अनाज आना शुरू हो गया है. लेकिन किसान (Farmer) जब मंडी में अनाज लेकर पहुंच रहा है तो उसे भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. गौरतलब है कि हरियाणा सरकार (Haryana Government) ने किसानों को  उनकी फसल मंडी में लाने का मैसेज भेजना शुरू किया था जिसके बाद ही किसान अपनी फसल को मंडी में ला सकता था. लेकिन किसानों ने मैसेज सिस्टम और मेरी फसल मेरा ब्योरा पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मैसेज का सिस्टम गलत है जिसके चलते किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था. हालांकि अब मैसेज आने के सिस्टम को खत्म कर दिया गया है जिसके चलते किसानों को फायदा होगा.

इसी पर फरीदाबाद में जब किसानों से बात की गई तो किसानों ने मिली जुली प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जिस प्रकार से किसानों को मैसेज भेज कर अपनी उगाई हुई फसल को मंडी में लाने के लिए संदेश भेजा जाता था. जिसके चलते केवल किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था. किसानों ने बताया कि जब तक किसानों के पास मैसेज पहुंचा था तब तक किसानों की फसल या तो खेत में खड़ी होती थी या पूरी तरीके से कटाई नहीं हो पाती थी जिसके चलते मैसेज का उन्हें फायदा नहीं मिल पा रहा था. अब मैसेज सिस्टम को खत्म कर दिया गया है जिसके चलते किसानों को फायदा होगा. वह अपनी फसल कभी भी मंडी में लाकर बेच सकता है.

वहीं उन्होंने कहा कि मेरी फसल मेरा ब्योरा के पोर्टल से भी उन्हें कोई फायदा होता नजर नहीं आया. यहां मंडी में आने के बाद भी किसानों को तरह तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. किसानों ने कहा कि जितनी फसल का उन्होंने रजिस्ट्रेशन कराया हुआ है उतनी फसल उनसे नहीं ली जा रही. किसानों ने कहा कि 2% नमी घटाने के चलते किसानों को इससे नुकसान होगा.

वही मंडी के सहायक सचिव वेदपाल ने बताया कि मंडी में आने वाले किसानों का पहले गेट पास जाता है और उनके लिए यहां पर बैठने उठने, शौचालय और पीने के पानी की व्यवस्था की गई है. चारों तरफ लाइट व्यवस्था की गई है ताकि किसानों को किसी प्रकार से कोई परेशानी का सामना ना करना पड़े. वहीं उन्होंने कहा कि यदि कोई किसान बिना मैसेज का आता है तो उसे भी अरजेस्ट  किया जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज