होम /न्यूज /हरियाणा /यहां मुस्लिम कारीगरों ने 40 दिन में तैयार की भगवान श्री कृष्ण की विशाल प्रतिमा

यहां मुस्लिम कारीगरों ने 40 दिन में तैयार की भगवान श्री कृष्ण की विशाल प्रतिमा

मुस्लिम कारीगरों द्वारा बनाई गई श्रीकृष्ण की प्रतिमा

मुस्लिम कारीगरों द्वारा बनाई गई श्रीकृष्ण की प्रतिमा

श्री कृष्ण की विशाल प्रतिमा बनाने वाले मथुरा से आये मुस्लिम कारीगर स्वराज अहमद ने बताया की यह उनका खानदानी पेशा है और च ...अधिक पढ़ें

    फरीदाबाद के एक नंबर मार्केट स्थित सिद्धपीठ हनुमान मंदिर के बाहर सड़क के बीचो बीच जन्माष्टमी के मौके पर भगवान श्री कृष्ण की विशाल प्रतिमा स्थापित की गई है. इस प्रतिमा को मथुरा के मुस्लिम कारीगरों ने चालीस दिन की कड़ी मेहनत के बाद तैयार किया है.  ख़ास बात यह है की इस प्रतिमा में एक मोटर लगाई गई है जिसके चलते प्रतिमा का मुख दाई से बाई और बार-बार घूमता है.

    मंदिर के प्रधान राजेश भाटिया ने बताया की सिद्धपीठ हनुमान मंदिर में हनुमान जी से प्रेरित होकर उन्होंने इसका निर्माण करवाया है ताकि श्रधालुओ के सामने कुछ नया पेश किया जा सके. उन्होंने बताया की प्रतिमा के आगे एक विशाल मंच भी बनाया गया है जिस पर स्कूली बच्चे भगवान् कृष्ण की लीला से सम्बंधित कार्यक्रम पेश करेंगे जो रात 12 बजे तक जारी रहेंगे.

    श्रीकृष्ण जन्माष्टमी: तीन हजार जवानों के हाथ में होगी 'बांके बिहारी' की सुरक्षा

    मंदिर में आने वाले श्रधालुओ को प्रसाद के रूप में टॉफियां और सीटियां वितरित की जाएंगी ताकि श्रद्धालु दर्शन करने के बाद यहां से सीटियां बजाते हुए उत्साह से अपने घर पहुंचे. उन्होंने बताया की मंदिर में आने वाले हजारो श्रधालुओ के लिए सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किये गए है.

    क्या कृष्ण सिर्फ भारतीय भगवान हैं?

    श्री कृष्ण की विशाल प्रतिमा बनाने वाले मथुरा से आये मुस्लिम कारीगर स्वराज अहमद ने बताया की यह उनका खानदानी पेशा है और चालीस दिन की कड़ी मेहनत  के बाद उन्होंने इस 42 फुट की प्रतिमा का निर्माण किया है. उन्होंने दावा किया की आज तक उन्होंने श्री कृष्ण की इतनी बड़ी प्रतिमा कभी नहीं बनाई. यह अपने आप में पहली विशाल प्रतिमा है जिसमे एक मोटर लगाई गई है और इस मोटर की वजह से मूर्ति का मुख दाईं-बाईं और घूमता है. उन्होंने कहा की वह सभी धर्मो का सम्मान करते हैं. यही नहीं दशहरा पर भी वह लोग रावण आदि के बुत तैयार करते है. इसलिए सभी को सभी धर्मो का सम्मान करना चाहिए.

    Tags: Janmashtami 2018

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें