इस पोर्टल पर 31 अगस्त तक रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं किसान, मिलेंगे कई फायदे
Chandigarh-City News in Hindi

इस पोर्टल पर 31 अगस्त तक रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं किसान, मिलेंगे कई फायदे
एक पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवा कर कई लाभ ले सकते हैं किसान

खेती-किसानी से जुड़ी सरकारी योजनाओं का लाभ चाहिए तो मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवाकर अपनी फसल संबंधी डिटेल अपलोड करें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 26, 2020, 9:53 AM IST
  • Share this:
चंडीगढ़. हरियाणा सरकार ने मेरी फसल-मेरा ब्यौरा (Meri Fasal  Mera Byora) योजना के तहत किसानों द्वारा रजिस्ट्रेशन करवाने की अंतिम तारीख 25 अगस्त से बढ़ाकर 31 अगस्त तक कर दी है. कृषि विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल ने बताया कि अब तक मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर 4,83,760 किसानों द्वारा 25,65,730.44 एकड़ का रजिस्ट्रेशन करवाया गया है.

कब हुई पोर्टल की शुरुआत?

इसकी शुरुआत 5 जुलाई 2019 को मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने की थी. इस पोर्टल पर किसान (Farmer) अपनी फसल संबंधी डिटेल अपलोड कर खेती-किसानी से जुड़ी राज्य की सभी सरकारी योजनाओं का लाभ ले सकते हैं. यह जमीन के रिकॉर्ड के साथ एकीकृत (Integrated) है. इसमें किसान अपनी निजी जमीन पर बोई गई फसल का ब्यौरा देता है. इसी आधार पर उसकी फसल उपज की खरीद तय होती है. संजीव कौशल के मुताबिक कृषि तथा बागवानी विभागों द्वारा लागू की जा रही योजनाओं की सब्सिडी (Subsidy) एवं वित्तीय लाभ लेने के लिए फसल का पंजीकरण करवाना जरूरी है.



Meri Fasal Mera Byora Portal, farmers schemes and subsidies, kisan news in hindi, Aadhaar Card, haryana government yojana, मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल, किसानों की योजनाएं और सब्सिडी, किसान समाचार, आधार कार्ड, हरियाणा सरकार की योजनाएं
मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल के बारे में जानिए

क्या-क्या मिलेगा लाभ

-किसानों के लिए एक ही जगह पर सारी सरकारी सुविधाओं की उपलब्धता और समस्या निवारण के लिए यह प्रयास शुरू हुआ है.

-किसानों को खेती-किसानी से संबंधित जानकारियां समय पर मिलेंगी.

-खाद, बीज, ऋण एवं कृषि उपकरणों की सब्सिडी समय पर मिल सकेगी.

इसे भी पढ़ें: भ्रष्टाचारियों से किसानों के पैसे को बचा रही है ये तरकीब

-फसल की बिजाई-कटाई का समय और मंडी संबंधित जानकारी उपलब्ध होगी.

-प्राकृतिक आपदा-विपदा के दौरान सही समय पर सहायता दिलाने में भी यह पोर्टल मदद करेगा.

-पराली न जलाने वाले किसानों को भी इसी पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करना होगा. इसके बाद ही सुप्रीम कोर्ट द्वारा तय किया गया पैसा उसे मिलेगा.

ऐसे करें रजिस्ट्रेशन

-आधार कार्ड (Aadhaar Card) और मोबाइल नंबर जरूरी है. फसल से संबंधित जानकारी इस रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एसएमएस से मिलेगी.

-जमीन की जानकारी के लिए रेवेन्यू रिकॉर्ड के नकल की कॉपी, खसरा नंबर देख कर भरना होगा.

इसे भी पढ़ें: वो अध्यादेश, जिनके खिलाफ किसान-व्यापारी दोनों उठा रहे हैं आवाज

-फसल के नाम, किस्म और बुआई का समय मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल पर भरना होगा.

-बैंक पासबुक की कॉपी भी लगानी होगी, ताकि किसी भी स्कीम का लाभ सीधे अकाउंट में भेजा जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज