Home /News /haryana /

CDS Bipin Rawat Helicopter Crash: रास्ते में मिलने वाले बच्चों को टॉफियां देते थे रावत, बॉडीगार्ड रहे सुशील ने सुनाया किस्सा

CDS Bipin Rawat Helicopter Crash: रास्ते में मिलने वाले बच्चों को टॉफियां देते थे रावत, बॉडीगार्ड रहे सुशील ने सुनाया किस्सा

सिविलियंस के प्रति हमेशा लगाव रखते थे बिपिन रावत

सिविलियंस के प्रति हमेशा लगाव रखते थे बिपिन रावत

CDS Bipin Rawat Death: तमिलनाडु के कुन्नूर में बुधवार को भारतीय वायुसेना के हेलिकॉप्टर क्रैश होने से देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका समेत कुल 14 लोगों की मौत हो गई. इस हादसे के बाद पूरे देश में शोक की लहर है. उनके शवों को आज दिल्ली लाया जाएगा. इस हादसे पर पीएम मोदी समेत देश और दुनिया के दूसरे राजनेताओं ने दुख जताया है.

अधिक पढ़ें ...

फतेहाबाद. तमिलनाडु के पास हुए हेलीकॉप्टर हादसे (Helicopter Crash) में पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है. हादसे में देश ने सीडीएस बिपिन रावत (Bipin Rawat) और 13 अन्य लोगों के रूप में बहुत कुछ खो दिया है. इस हादसे की खबर से देशभर में जहां शोक की लहर दौड़ गई तो वहीं फतेहाबाद (Fatehabad) जिले में एक ऐसा जाबांज सैनिक भी गमजदा हो गया, जो काफी लंबे समय तक जनरल बिपिन रावत का साया बनकर रहा. जिले के गांव नन्हेड़ी निवासी सेवानिवृत्त नायक सुशील दो वर्ष तक जनरल बिपिन रावत के बॉडीगार्ड के तौर पर सेवारत रहे हैं.

वर्ष 2007 से 2009 तक जब बिपिन रावत जब ब्रिगेडियर थे और सेक्टर 5 के कमांडर थे, तब नायक सुशील जम्मू कश्मीर के सोपोर इलाके में उनकी सुरक्षा में तैनात रहे. जैसे ही दोपहर के समय बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर हादसे की उन्हें सूचना मिली तो पूरा परिवार बेचैन हो गया और बिपिन रावत की सलामती की दुआ करने लगे. शाम को जब सेना द्वारा उनके निधन की पुष्टि की तो उन्हें गहरा आघात लगा.

हर धर्म की आस्था को सम्मान देते थे बिपिन सर: सुशील
सुशील बोले कि देश ने न केवल बेहद अच्छे सुलझे हुए और जाबांज अफसर को खोया है बल्कि एक महान शख्सियत को भी खो दिया है. हर धर्म की आस्था को वे सम्मान देते थे और सेना के मनोबल को हर समय ऊपर उठाने के लिए प्रयासरत रहे. उनका काम, व्यवहार हमेशा उच्च कोटि का रहा है. बिपिन रावत के साथ बिताए समय को याद करते हुए उन्होंने कहा कि दुखद खबर सुनकर उनके पांव के नीचे से जमीन खिसक गई है. वे हमेशा जूनियर सैनिकों को सम्मान देते थे.

सुशील ने बताया कि एक बार वे उन्हें वैष्णो देवी यात्रा पर ले गए, जो उनके लिए हमेशा यादगार पल रहे. इस दौरान मिलने वाले बच्चों को वे टॉफियां बांटते रहते थे. जब वे और ऊंचे पद पर गए तब उनसे संपर्क खत्म हो गया, लेकिन वे हमेशा उनके दिल में बसते थे और बसते रहेंगे.

Tags: Bipin Rawat, Bipin Rawat Helicopter Crash, Cds bipin rawat, Coonoor Helicopter Crash, General Bipin Rawat, Helicopter crash, Indian Army Helicopter Crash

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर