लाइव टीवी
Elec-widget

पराली जलाने वाले 594 किसानों के विरुद्ध केस दर्ज, कार्रवाई जारी

Jaspal Singh | News18 Haryana
Updated: November 11, 2019, 5:49 PM IST
पराली जलाने वाले 594 किसानों के विरुद्ध केस दर्ज, कार्रवाई जारी
सोमवार को भी 35 किसानों के खिलाफ एफआईआर (FIR) दर्ज की गई.

किसान (Farmers) पराली जलाने (Stubble Burning) से बाज नहीं आ रह हैं. पराली जलाने के मामलों में जिले में अब तक 594 किसानों के विरूद्ध केस दर्ज किए जा चुके हैं.

  • Share this:
फतेहाबाद. हरियाणा में धान की पराली जलाने (Stubble Burning) वाले किसानों (Farmers) के खिलाफ प्रशासनिक कार्रवाई लगातार जारी है. सोमवार को भी 35 किसानों के खिलाफ एफआईआर (FIR) दर्ज की गई. इसके बावजूद किसान पराली जलाने से बाज नहीं आ रह हैं. पराली जलाने के मामलों में जिले में अब तक 594 किसानों के विरूद्ध केस दर्ज किए जा चुके हैं. अभी यह आंकड़ा और भी बढ़ सकता है. कृषि विभाग (Agriculture Department) के डीडीए ने बताया कि किसानों से लगातार धान की पराली नहीं जलाने की अपील की जाती रही है. इसके बावजूद अनेक किसान सरकारी अपील और आदेशों को दर किनार करते हुए पराली जला रहे हैं. उन्होंने कहा कि ऐसे किसानों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है.

फतेहाबाद में कृषि उप निदेशक बलवंत सहारण ने कहा कि पराली जलाकर किसान पर्यावरण को प्रदूषित कर आम जनजीवन को प्रभावित नहीं करें. साथ ही वे खुद भी परेशानी में नहीं पड़ें.

फतेहाबाद में कृषि उप निदेशक बलवंत सहारण ने कहा कि किसानों से अपील की गई है कि वे फसलों के अवशेष को न जलाएं.


1057 एक्टिव फायर लोकेशन सामने आई 

डीडीए के अनुसार जिले में अब तक 1057 एक्टिव फायर लोकेशन सामने आई है, जिन्हें ट्रेस कर कानूनी कार्रवाई की जा रही है. उन्होंने बताया कि जिले में अब तक 312 एफआईआर दर्ज करवाई जा चुकी है जिनमें 594 किसान नामजद किए गए हैं. किसानों से अपील की गई है कि वे फसलों के अवशेष को न जलाएं बल्कि उसका उचित ढंग से प्रबंधन करें. सरकारी तंत्र इसके लिए लगातार सक्रिय है.

ये भी पढ़ें - जींद : एंबुलेंस चालकों का किया जाएगा ब्रेथ एनालाइजर टेस्ट

ये भी पढ़ें - शीघ्र ही मंत्रिमंडल का विस्तार किया जाएगा : दुष्यंत चौटाला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए फतेहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 5:49 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com