• Home
  • »
  • News
  • »
  • haryana
  • »
  • हरियाणा: डिलीवरी के बाद बच्चे की मौत, मां की हालत गंभीर, परिजनों का अस्पताल में हंगामा

हरियाणा: डिलीवरी के बाद बच्चे की मौत, मां की हालत गंभीर, परिजनों का अस्पताल में हंगामा

फतेहाबाद के अस्पताल में परिजनों का हंगामा.

फतेहाबाद के अस्पताल में परिजनों का हंगामा.

Haryana news: महिला को हिसार के निजी अस्पताल सीएमसी में भर्ती करवाया गया. महिला के शरीर में जहर फैलने से रोकने के लिए महिला की बच्चेदानी को ऑपरेशन द्वारा रिमूव किया गया.

  • Share this:

    टोहाना (फतेहाबाद). हरियाणा के फतेहाबाद जिले के टोहाना में निजी हॉस्पिटल पर फिर से लापरवाही के आरोप लगे हैं. डिलीवरी के समय बच्चे की मौत के बाद मां की हालत गंभीर गंभीर है. गंभीर हालत में महिला को हिसार के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है. परिजनों ने हॉस्पिटल के बाहर जमकर हंगामा किया और महिला विशेषज्ञ डॉक्टर शालिनी गर्ग पर लापरवाही के आरोप लगाए हैं. परिवार के सदस्यों का आरोप है कि उन्हें लंबे समय तक गुमराह किया गया. बच्चे की मौत के बाद हालत बिगड़ने पर महिला को रेफर कर दिया.

    महिला के परिजन हॉस्पिटल के बाहर डॉक्टर पर कार्रवाई की मांग को लेकर नारेबाजी करते रहे. डिलीवरी के बाद से ही महिला को अधिक बिल्डिंग शुरू हो गई थी जिसे महिला की हालत बिगड़ गई तत्पश्चात डॉक्टर ने उसे जवाब दे दिया. पुलिस प्रशासन मौके पर पहुंचकर मामले की जांच में जुटा हुआ है. महिला का नाम मीनाक्षी रानी बताया गया है और भाटिया नगर की रहने वाली है. चंडीगढ़ रोड स्थित मेडिकल एनक्लेव स्थित शालिनी अस्पताल और मल्टी स्पेशलिस्ट सेंटर में महिला को भर्ती किया गया था.

    क्या कहना है पुलिस का

    शहर थाना प्रभारी सुरेंद्र कुमार ने बताया कि शिकायत प्राप्त हुई है. मौके पर थे. शालिनी हॉस्पिटल में एक गर्भवती महिला को लाया गया था. डिलीवरी के दौरान बच्चे की मौत हो चुकी ,है जबकि महिला की हालत नाजुक देखते हुए हिसार निजी हॉस्पिटल सीएमसी में रेफर किया गया है. परिजनों की ओर से शिकायत प्राप्त हुई है जिसमें डॉक्टर पर लापरवाही और दूरव्यवहार करने का आरोप लगाया है. शिकायत के आधार पर जांच की जा रही है.

    फतेहाबाद में निजी अस्पताल के बाहर हंगामा करते हुए परिजन.

    क्या कहता है अस्पताल प्रबंधन

    हॉस्पिटल संचालक और डॉ शालिनी गर्ग पति डॉ. मनोज गर्ग ने बताया कि सोमवार को एक गर्भवती महिला डिलीवरी के लिए अस्पताल में दाखिल हुई थी, जिसका यह दूसरा बच्चा था. पहला बच्चा भी ऑपरेशन से हुआ था. गर्भवती महिला को डॉ शालिनी घर की देखरेख में रखा गया. नॉर्मल डिलीवरी होने की संभावना अधिक थी. डिलीवरी के दौरान बच्चे की मृत्यु हो गई. इसके अलावा महिला को ज्यादा ब्लीडिंग हो रही थी. एक बार डॉक्टर द्वारा ब्लीडिंग को कंट्रोल में कर लिया गया, लेकिन महिला की हालत बिगड़ती गई, जिसके बारे में परिजनों को बताया गया कि महिला की बच्चेदानी रिमूव करनी पड़ेगी. लेकिन परिजनों ने ऐसा करने से मना कर दिया तथा महिला को छुट्टी देने की बात कही. महिला की हालत काफी गंभीर हो चुकी थी, क्योंकि ब्लीडिंग बंद नहीं हो रही थी. महिला को हिसार के निजी अस्पताल सीएमसी में भर्ती करवाया गया. महिला के शरीर में जहर फैलने से रोकने के लिए महिला की बच्चेदानी को ऑपरेशन द्वारा रिमूव किया गया. परिजनों ने प्रबंधन पर जो दुर्व्यवहार का आरोप लगाया है, अगर ऐसा कुछ हुआ है उसके लिए में अपने स्टाफ की ओर से माफी चाहता हूं. बच्चे के जाने का हमें भी दुख है, इसलिए हमारी संवेदनाएं परिवार के साथ हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज