किसानों के आरमानों पर आसमानी आफत, ओलावृष्टि और बरसात से फसलों को भारी नुकसान
Fatehabad News in Hindi

किसानों के आरमानों पर आसमानी आफत, ओलावृष्टि और बरसात से फसलों को भारी नुकसान
ओलावृष्टि और बेमौसमी बरसात से फसलों को भारी नुकसान

किसानों (Farmers) का कहना था कि जिन लोगों ने हाल ही में गेहूं और सरसों की फसल की बिजाई की है, उसे ओलावृष्टि (HailStorm) ने पूरी तरह से तबाह कर दिया है.

  • Share this:
फतेहाबाद. बेमौसम बरसात और ओलावृष्टि ने किसानों (Farmers) के अरमानों को बुरी तरह से धोकर रख दिया है. बुधवार देर रात जिले में अनेक स्थानों पर भारी ओलावृष्टि (Hail Storm) हुई. इतनी ओलावृष्टि देख लोगों के आंखें फटी रह गई. इलाकावासियों का कहना था कि ऐसी ओलावृष्टि उन्होंने अपने जीवन में नहीं देखी. जिले के गांव सिधानी, टिब्बी, कुलां, लहरियां, अकांवाली सहित अनेक स्थानों पर भारी ओलावृष्टि और बरसात हई, पहले से ही मार झेल रहे किसान की इस बैमौसमी बरसात ने कमर तोड़ कर रख दी है.

किसानों का कहना था कि जिन लोगों ने हाल ही में गेहूं और सरसों की फसल की बिजाई की है, उसे ओलावृष्टि ने पूरी तरह से तबाह कर दिया है. कड़ी मेहनत और हजारों रुपए खर्च कर किसानों ने फसल की बिजाई की थी, मगर पिछले तीन दिनों से आसमान से बरस रही आफत ने किसानों के अरमानों पर पानी फेर दिया है. वहीं इस बरसात की कुछ इलाकों में फायदा भी देखने को मिल रहा है.

किसानों ने सरकार से की मांग



जानकारों का मानना है कि जिन इलाकों में केवल बरसात हुई है और किसानों ने अगेती किस्म की फसलों की बिजाई की थी उन्हें इस बरसात का लाभ होगा. वहीं बरसात और ओलावृष्टि के कारण ठंड में भी जबरदस्त इजाफा हुआ है. न्यूनतम तापमान लुढ़क कर 10 डिग्री पहुंच गया है जबकि अधिकतम तापमान 20 के आसपास बना हुआ है. किसानों ने सरकार से मांग की है कि उनकी तबाह हुई फसल की तुरंत गिरदावरी करवा कर उन्हें मुआवजा दिलवाया जाए.



यह भी पढ़ें- ट्रांसपोर्टरों की गुंडागर्दी, हड़ताल के नाम पर ड्राइवरों के साथ कर रहे मारपीट और दुर्व्यवहार

यह भी पढ़ें- राम रहीम से मिलने को बेताब हनीप्रीत, पुलिस के इनकार के बाद विज से लगाई गुहार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading