Home /News /haryana /

पाकिस्तान के पूर्व सांसद को भारत में नागरिकता की आस, CAA पास होने से जगी थी उम्मीद

पाकिस्तान के पूर्व सांसद को भारत में नागरिकता की आस, CAA पास होने से जगी थी उम्मीद

परिवार के मुखिया डबाया राम ने बताया कि करीब 20 वर्ष पूर्व पाकिस्तान से यहां आए थे.

परिवार के मुखिया डबाया राम ने बताया कि करीब 20 वर्ष पूर्व पाकिस्तान से यहां आए थे.

डवायाराम ने कहा कि नागरिकता न मिल पाने के कारण उन्हें और उनके परिवार वालों को न तो सरकार की किसी योजना का लाभ मिल रहा है और न ही कोई सुविधा.

फतेहाबाद. भारतीय नागरिकता के लिए अधिकारियों की गुहार पाकिस्तान से आकर बसे हिंदू लगा रहे हैं. करीब 20 वर्ष पहले ये पाकिस्तान से रोहतक आए थे. डवायाराम और कुछ लोग रोहतक बस गए, जबकि कुछ लोग फतेहाबाद के गांव रतनगढ़ में आ गए. नागरिकता संशोधन बिल के पास हो जाने के बाद डबायाराम को उम्मीद जगी थी कि अब उन्हें भारत में नागरिकता मिल जाएगी, मगर तीन वर्ष बीत जाने के बाद भी उन्हें नागरिकता नहीं मिली है. वृद्ध हो चुके डबाया राम अपने परिवार को भारतीय नागरिकता दिलवाने के लिए अधिकारियों के कार्यालयों के चक्कर काट गुहार लगा रहे हैं. मामला फतेहाबाद के रतनगढ़ गांव का है. यहां पाकिस्तान से आकर रहे हिंदु परिवारों का है.

परिवार के मुखिया डबाया राम ने बताया कि करीब 20 वर्ष पूर्व पाकिस्तान से यहां आए थे, उसके बाद वे पाकिस्तान वापिस नहीं लौटे. उनके परिवार के बच्चों की शादियां भी यहां, उनकी बच्चे भी यहां हुए हैं, मगर उन्हें अभी तक नागरिकता नहीं मिली है. उन्होंने बताया कि नागरिकता लेने के लिए दस्तावेज डीसी कार्यालय में सौंपे थे. जहां अधिकारियों ने दस्तावेज जांचे और केंद्रीय गृह विभाग को भेजे दिए थे, मगर वक्त बीत जाने के बाद भी उन्हें नागरिकता नहीं मिल पाई तो बीते दिन वे फिर उपायुक्त कार्यालय पहुंचे और गुहार लगाई.
राशन कार्ड बन जाए

डबायाराम ने प्रशासन से मांग की है कि उनका राशन कार्ड बनाया जाए और उन्हें भारतीय नागरिकता दी जाए. डवायाराम ने कहा कि नागरिकता न मिल पाने के कारण उन्हें और उनके परिवार वालों को न तो सरकार की किसी योजना का लाभ मिल रहा है और न ही कोई सुविधा. वहीं इस मामले में सीटीएम अंकिता ने बताया कि डबायाराम एवं उनके परिवार द्वारा नागरिकता के लिए आवेदन किया गया था, मगर किन्हीं तकनीकि कारणों से आवेदन स्वीकार्य नहीं हो पाए. अब यह काम ऑनलाइन कर दिया गया है और शीघ्र ही उनके कार्यालय को संबंधित विभाग द्वारा इक्यूपमेंट एक्टिवेट कर दिया जाएगा, उसके बाद डबायाराम और उसके परिवार के दस्तावेजों को अपलोड कर केंद्रीय गृह मंत्रालय के पास भेज दिए जाएंगे। जिस पर अंतिम निर्णय वहीं होगा.

Tags: Government of Haryana, Hindu, India pakistan

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर