बड़ी लापरवाही: फुटपाथ पक्का करने के चक्कर में नहीं छोड़ी पेड़ों को पानी देने की जगह, दर्जनों पेड़ सूखने की कगार पर

समाजसेवी युवा ने छेड़ी पेड़ों को बचाने की मुहिम.

समाजसेवी युवा ने छेड़ी पेड़ों को बचाने की मुहिम.

पार्क (Park) का निर्माण करते हुए पेड़ों (Trees) की जड़ों पर भी सीमेंट से सड़क व फुटपाथ आदि बना दिए. जिससे उनकी जड़ों तक पानी नहीं पहुंच रहा.

  • Share this:

फतेहाबाद. हरियाणा के फतेहाबाद (Fatehabad) जिले के पपीहा पार्क के सामने कन्फेक्शनरी चलाने वाले मनोज कुमार ने लॉकडाउन में खाली समय का सदुपयोग करते हुए सूखे पेड़ों को दोबारा से जिंदगी देने का बीड़ा उठाया है. मनोज इन दिनों अपनी दुकान के कर्मचारी की मदद से मॉडल टाउन एरिया में फुटपाथ व सड़क बनने के बाद बीच में आए पेड़ों (Trees) के पास गड्‌ढे बनाकर उनमें हवा-पानी जाने का प्रबंध कर रहे हैं. अब तक 12 पेड़ों के पास इस तरह से जगह बनाई गई है. जिससे सूख चुके पेड़ों ही हालत में सुधार आने लगा है. नगर परिषद व प्रशासन की ओर से शहर में विभिन्न जगहों पर पार्कों के आस-पास सड़क व फुटपाथ बनाते समय इन पेड़ों की जड़ों के पास भी निर्माण कर दिया था, जिससे उन्हें हवा-पानी मिलने का रास्ता बंद हो गया और वह सूखने लगे.

सूखे पेड़ों को देखकर चिंता होने लगी थी

मनोज कुमार बताते हैं कि उनकी पपीहा पार्क के पास कन्फेक्शनरी की दुकान हैं. जहां वह अपने भाई महेंद्र के साथ बैठते हैं. कुछ समय से वह आस-पास के कुछ पेड़ों को देख रहे थे जोकि पूरी तरह से सूख चुके थे. इन दिनों लॉकडाउन लगा हुआ है, दुकान बंद थी, ऐसे में उन्होंने सोचा कि क्यों न खाली समय का प्रयोग इन पेड़ों की हालत सुधारने के लिए किया जाए. वैसे भी इन दिनों ऑक्सीजन की कमी महसूस की जा रही है. इसके बाद उन्होंने अपने कारिंदे राजू के साथ मिलकर इन पेड़ों की जड़ों के आस-पास गड्‌ढे बनाने शुरू कर दिए.

पेड़ों की जड़ों पर भी सीमेंट से फुटपाथ बना दिया
प्रशासन ने पिछले दिनों पार्क का निर्माण करते हुए पेड़ों की जड़ों पर भी सीमेंट से सड़क व फुटपाथ आदि बना दिए. जिससे उनकी जड़ों तक पानी नहीं पहुंच रहा था. इसपर उन्होंने पेड़ों की जड़ों के पास गड्‌ढे बनाने की सोची ताकि नियमित रूप से पानी डाला जा सके. दो दिन में 12 पेड़ों के पास गड्‌ढे बना दिए गए हैं. जिसके बाद एक-दो पेड़ों पर तो दोबारा से नए पत्ते दिखाई देने लगे हैं. अब वह शहर के विभिन्न जगहों पर खासकर जीटी रोड पर इस तरह से सूख रहे पेड़ों की जड़ों के पास गड्‌ढे बनाकर पानी का प्रबंध करेंगे.

20 मिनट लग रहे गड्ढा बनाने में

मनोज ने बताया कि इन पेड़ों की जड़ों पर कंकरीट डाली गई, जिससे वह पूरी तरह से पक्के हो गए हैं. अब पेड़ों के ईद-गिर्द गड्‌ढे बनाने के लिए कंकरीट को हथोड़े छैनी की मदद से तोड़ना पड़ रहा है. एक गड्‌ढा बनाने में 20 मिनट तक का समय लग जाता है. अब यह भी सोचा कि कुछ पेड़ों को दीमक लग चुका हैं, उनमें दवा डाली जाए.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज