जम्मू-कश्मीर के लिए बंद पड़ी डाक सेवाएं बहाल, अब भाईयों को राखी भेज सकेंगी बहनें

डाक घर के पोस्टमास्टर ने बताया कि उन्हें व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से यह जम्मू-कश्मीर और लेह के लिए जाने वाली डाक को बहाल करने के आदेश मंगलवार को प्राप्त हुए हैं.

Jaspal Singh | News18 Haryana
Updated: August 14, 2019, 11:07 AM IST
जम्मू-कश्मीर के लिए बंद पड़ी डाक सेवाएं बहाल, अब भाईयों को राखी भेज सकेंगी बहनें
जम्मू-कश्मीर के लिए बंद पड़ी डाक सेवाएं बहाल
Jaspal Singh | News18 Haryana
Updated: August 14, 2019, 11:07 AM IST
कश्मीर से धारा 370 निरस्त करने के बाद से एतिहातन बंद की गई सेवाएं एक-एक करके फिर बहाल की जा रही हैं. केंद्र सरकार द्वारा जम्मू और कश्मीर के लिए बंद की गई डाक सेवा को भी मंगलवार को बहाल कर दिया गया. विभागीय अधिकारियों द्वारा विभाग के लिए बनाए गए व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से सभी डाकघरों के मुख्य डाकपालों को यह सूचना प्रेषित की गई है.

डाक सेवा बहाल होने की सबसे अधिक खुशी उन बहनों को हो रही है जिनके भाई इन क्षेत्रों में सुरक्षा बलों में तैनात हैं. अब ये बहनें भी अपने भाईयों की रक्षा के लिए रक्षासूत्र यानि राखी भेज सकेंगी. जम्मू कश्मीर में डाक सेवाओं पर प्रतिबंध के कारण बहनों के चेहरे पर मायूसी छाई हुई थी कि वे कैसे अपने भाईयों को राखी भेजेंगी.

बहनों के चेहरों पर लौटी रौनक

केंद्र सरकार और विभाग द्वारा मंगलवार को जम्मू-कश्मीर और लेह क्षेत्र में डाक सेवाओं पर लगाए गए प्रतिबंध को हटाने के बाद बहनों के चेहरों की रौनक भी लौट आई है. बतां दे कि कश्मीर से धारा 370 को हटाए जाने के बाद एहतियात के तौर पर बहुत सी सेवाओं पर प्रतिबंध लगा दिया गया था, जिनमें डाक सेवा भी शामिल थी.

मंगलवार को मिले आदेश

डाक घर के पोस्टमास्टर ने बताया कि उन्हें व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से यह जम्मू-कश्मीर और लेह के लिए जाने वाली डाक को बहाल करने के आदेश मंगलवार को प्राप्त हुए हैं. आदेशों के बाद से उन्होंने सेवाएं बहाल कर दी हैं.

यह भी पढ़ें: तेज रफ्तार कार ने बुजुर्ग की ली जान, ड्राइवर को लगी करंट और कार खाई में जा गिरी
Loading...

 अंतरराष्ट्रीय महिला पहलवान बबीता फौगाट चरखी दादरी से लड़ सकती हैं चुनाव!

 मोबाइल चोरी के विवाद में युवक ने अपने ही दोस्त की चाकू से गोदकर की हत्या 
First published: August 14, 2019, 10:24 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...