फतेहाबाद: बरसाती पानी से सड़क पर तालाब जैसा नजारा, लोगों में भारी रोष

सड़कों पर भरा पानी, लोगों में रोष

हाइवे पर सड़क से एक फीट तक पानी भर गया. जिसकी निकासी बारिश रुकने के दो दिन बाद तक भी नहीं हो पाई है.

  • Share this:
फतेहाबाद. राज्य में मानसून (Monsoon) का आगमन हो चुका है. जाखल क्षेत्र में लगातार बारिश हो रही है. बारिश के बाद से हालांकि क्षेत्र में कृषि कार्य में तेजी आई है एवं आम जनता को गर्मी और उमस से राहत मिलने लगी है तो वहीं कुछ लोगों के लिए मानसून की ये प्रारंभिक वर्षा आफत बनने लगी है. बीते दिनों हुई बरसात (Rain) ने प्रशासन की मानसून के पूर्व की गई तैयारियों की एक तरफा पोल खोलकर रख दी है. बीते चार पांच दिन से मौसम के बार-बार करवट बदलने से रूक-रूक कर हुई तेज बारिश से चंडीगढ़-बुढ़लाडा नेशनल हाईवे की मुख्य सड़क तालाब में तब्दील हो गई है.

हाइवे पर सड़क से एक फीट तक पानी भर गया. जिसकी निकासी बारिश रुकने के दो दिन बाद तक भी नहीं हो पाई है. इससे स्थानीय व्यापारियों के समक्ष बड़ी मुसीबत खड़ी होने के साथ ही राहगीरों को भी दिक्कत हो रही है. जलभराव की वजह से उक्त मुख्य सड़क पूरी तरह से टूट चुकी है. सड़क बड़े बड़े गड्ढों में तब्दील हो गई है. ऐसे में सड़क मार्ग पर पानी भरा होने से जहां से गुजरने वाले दोपहिया वाहन चालक संतुलन बिगड़ने से गिरकर चोटिल हो रहें है.

नेशनल हाइवे की नाली में पानी निकासी की व्यवस्था न होने से बारिश का पानी नाली में भर गया अथवा सड़क पर नाली का गंदा पानी बहने लगा है. दूषित पानी जमा होने से आसपास के लोगों को बीमारी फैलने का भय बना हुआ है. स्थानीय लोगों ने बताया कि एनएच पर जलभराव की ये समस्या नई नहीं है, अपितु दो वर्षो से लोग इस समस्या का दंश झेल रहे हैं. एनएच हाईवे पर जल निकासी की व्यवस्था न होने से हर बार बारिश के दौरान जहां स्थिति इसी प्रकार विकट होती है.

स्थानीय लोगों की मानें तो पानी निकासी की मांग को लेकर वह अनेक बार नेशनल हाइवे व प्रशासन अधिकारियों को शिकायत दे चुके है, बावजूद इसके किसी अधिकारी व पंचायत द्वारा इस समस्या को दूर करने के लिए कोई प्रयास नहीं किया गया है. इसका खामियाजा व्यापारी व आम जनता को भुगतना पड़ रहा है नगर वासियों का कहना है कि अभी तो बारिश की शुरूआत ही है, आगे और भीषण बारिश होगी तो सड़क का पानी व्यापारियों की दुकानों व घरों में घुस कर परेशानी का सबब बन सकता है. ऐसे में लोगों ने शासन प्रशासन से मांग की है कि यथाशीघ्र इस समस्या का स्थाई निवारण किया जाए.