हरियाणा के सुरेंद्र पाल ने ऑस्ट्रेलिया में बजवाया अपने नाम का डंका, चुने गए सि​टी काउंसलर
Fatehabad News in Hindi

हरियाणा के सुरेंद्र पाल ने ऑस्ट्रेलिया में बजवाया अपने नाम का डंका, चुने गए सि​टी काउंसलर
सुरेंद्र पाल ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया में महिला सुरक्षा के बारे में बताया कि वहां पर देर रात महिलाएं बेखौफ कहीं भी आ जा सकती हैं.

भारतीय मूल के सुरेन्द्र पाल (Surendra Paul) ने ऑस्ट्रेलिया में अपने नाम का डंका बजा दिया है. उन्होंने नगर पार्षद का पद जीत कर हिन्दुस्तान का नाम रोशन किया है. सुरेंद्र पाल जींद जिले के गांव झाजन गांव के निवासी हैं.

  • Share this:
टोहाना. भारतीय मूल के सुरेन्द्र पाल (Surendra Paul) ने ऑस्ट्रेलिया (Australia) में अपने नाम का डंका बजा दिया है. उन्होंने नगर पार्षद का पद जीत कर हिन्दुस्तान का नाम रोशन किया है. सुरेंद्र पाल जींद जिले (Jind District) के गांव झाजन गांव के निवासी हैं. सुरेंद्र पाल वर्ष 2007 में ऑस्ट्रेलिया चले गए थे. बीते वर्ष सीटी आॅफ वेस्ट टोरेंस के हीलटोन के वॉर्ड प्लेमपटोन से नगर पार्षद चुने गए हैं. सुरेंद्र इन दिनों हिन्दुस्तान आए हुए हैं. वे टोहाना में एक दोस्त के घर पहुंचने पर मीडिया कर्मियों से मिले. उन्होंने बताया कि ऑस्ट्रेलिया में अपना पैर जमाने के लिए उन्होंने शुरूआती दौर में टैक्सी भी चलाई.

चार साल बाद ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने दे दी नागरिकता

सुरेंद्र पाल ने बताया कि मेरे धीरे-धीरे वहां के निवासियों से दोस्ती बढ़ती गई. चार वर्ष बाद उन्हें ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने नागरिकता दे दी. उसके बाद परिवार पालन पोषण के साथ राजनीतिक सफर भी रंग लाने लगा. बीते वर्ष नगर पार्षद के चुनाव हुए, तभी उन्होंने भी किस्मत अजमाने का फैसला किया, जिसमें वह कामयाब हुए. उन्होंने बताया कि वहां की राजनीति व हमारे देश की राजनीति में जमीन आसमान का अतंर है. वहां लोग समाजसेवा करने के लिए राजनीति में आते हैं, लेकिन हिन्दुस्तान में लोग अपने हित व स्वार्थ साधने लिए राजनीति में आते है.



Surendra Paul
सुरेंद्र पाल ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया में महिला सुरक्षा के बारे में बताया कि वहां पर देर रात महिलाएं बेखौफ कहीं भी आ जा सकती हैं.

'ऑस्ट्रेलिया में पुलिस पर नहीं है किसी किस्म का दबाव'

सुरेंद्र पाल ने कहा कि वहां राजनेता जनता के हितों के लिए दिनरात काम करते हैं. उन्होंने कहा​ कि वहां पर लोगों से वही वादे किए जाते हैं जिन्हें पूरा किया जा सके. अगर हिन्दुस्तान व ऑस्ट्रेलिया में क्राइम की बात करें तो वहां पर पुलिस स्वतंत्र है. उनपर किसी प्रकार का कोई दबाब नही है, वह बिना दबाब के काम करते हैं इसलिए वहां पर क्राइम रेट जीरो है.

'ऑस्ट्रेलिया में बेखौफ होकर देर रात तक घूमती हैं महिलाएं'

उन्होंने ऑस्ट्रेलिया में महिला सुरक्षा के बारे में बताया कि वहां पर देर रात महिलाएं बेखौफ कहीं भी आ जा सकती हैं, अगर वह किसी मुश्किल में फंस जाएं तो उनकी सहायता के लिए पुलिस सदैव तत्पर रहती है. हमारे यहां आए दिन महिलाएं दरिंदगी की शिकार हो रही हैं. पहले हमारे नेताओं को नि:स्वार्थभाव से जनता की सेवा करने के लिए वचनबद्ध होना चाहिए, तभी हिन्दुस्तान में साफ सुथरा शासन होगा.

यह सवाल पूछे जाने पर कि क्या आपको विदेशी होने की वजह से आपको दिक्कत हुई? इस सवाल के जवाब में सुरेंद्र पाल ने कहा कि नहीं मुझे इसके उलट सभी ने बहुत समर्थन दिया. पाकिस्तानियों भाइयों, ऑस्ट्रेलियाई सभी ने मुझे जमकर समर्थन दिया.

यह भी पढ़ें: पंचकूला हिंसा मामला: सबूतों के अभाव के चलते 10 आरोपी बरी

चुनाव से पहले वार्ड मेंबर गायब, चेयरमैन पर मारपीट कर अगवा करने का आरोप
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading