अवैध डायग्नोस्टिक सेंटर पर स्वास्थ्य विभाग का छापा, आरोपी डॉक्टर गिरफ्तार

News18 Haryana
Updated: September 4, 2019, 11:21 AM IST
अवैध डायग्नोस्टिक सेंटर पर स्वास्थ्य विभाग का छापा, आरोपी डॉक्टर गिरफ्तार
गुरुग्राम: अवैध डायग्नोस्टिक सेंटर पर स्वास्थ्य विभाग का छापा, आरोपी डॉक्टर गिरफ्तार (सांकेतिक तस्वीर)

गुरुग्राम में देर शाम मंगलवार को खांडसा रोड के भाटिया डायग्नोस्टिक सेंटर पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने छापामार कार्रवाई की.

  • Share this:
गुरुग्राम. हरियाणा (Haryana) के गुरुग्राम (Gurugram) जिले में देर शाम मंगलवार को खांडसा रोड के भाटिया डायग्नोस्टिक सेंटर (Bhatiya Diagnosti Centre) पर स्वास्थ्य विभाग (Health Department) की टीम ने छापा (Raid) मारा. छापेमारी के दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम को पीएनडीटी एक्ट (Pre-Natal Diagnostic Technique Act) के तहत फॉर्म (एफ) में कई खामियां मिली हैं. बता दें कि प्री-नेटल डायग्नोस्टिक टेक्निक यानी 'पीएनडीटी' एक्ट 1996 के तहत जन्म से पूर्व शिशु के लिंग की जांच पर पाबंदी है.

आरोपी डॉक्टर गिरफ्तार

बहरहाल, कार्रवाई के दौरान डायग्नोस्टिक सेंटर से जुड़े रजिस्ट्रेशन (Registration) संबंधि जानकारी नहीं मिलने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने आरोपी डॉक्टर (Accused Doctor) के खिलाफ शिवाजी नगर थाने में मुकदमा दर्ज करा दिया. इस दौरान आरोपी डॉक्टर राजीव भाटिया (Rajiv Bhatia) मौके से फरार हो गया था. हालांकि देर रात आरोपी डॉक्टर को गिरफ्तार कर लिया गया.

छापा-raid
गुरुग्राम: डायग्नोस्टिक सेंटर का रजिस्ट्रेशन नहीं मिलने पर आरोपी डॉक्टर गिरफ्तार (सांकेतिक तस्वीर)


3 बार दर्ज हो चुके हैं केस 

मामले में ड्रग कंट्रोल ऑफिसर (Drug control officer) अमनदीप चौहान (Amandeep Chauhan) ने बताया कि आरोपी डॉक्टर पर वर्ष 2011 से लेकर अब तक पीएनडीटी एक्ट के उल्लंघन (Violation) करने के मामले में 3 बार केस दर्ज हो चुके हैं.

डायग्नोस्टिक सेंटर का नहीं हुआ है रजिस्ट्रेशन
Loading...

ड्रग कंट्रोल ऑफिसर ने बताया कि भाटिया डायग्नोस्टिक सेंटर के खिलाफ पिछले एक महीने से शिकायतें मिल रही थी. उन्होंने बताया कि बीते सोमवार से डायग्नोस्टिक सेंटर पर छापामार कार्रवाई की जा रही थी. इसी क्रम में मंगलवार देर शाम जांच में ये पाया कि डायग्नोस्टिक सेंटर का रजिस्ट्रेशन ही नहीं है. इतना ही नहीं फॉर्म (एफ) में भी कई अनियमितताएं (Irregularities) पाई गई हैं.

मिली जानकारी के मुताबिक इससे पहले वर्ष 2011 में डॉक्टर राजीव भाटिया को छापेमारी के दौरान लिंग जांच करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. इसके बाद जुलाई वर्ष 2015 में भी डॉक्टर को लिंग जांच (Gender check) करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया. जिला अदालत ने डॉक्टर को 3 साल की सजा सुनाई थी, लेकिन डॉक्टर ने हाईकोर्ट में याचिका लगा दी. ये केस अभी पेंडिंग है.

ये भी पढ़ें:- कैथल में दादी पर लगे 10 दिन की पोती की हत्या के आरोप

SBI के कस्टमर केयर सेंटर में 3 नकाबपोश बदमाशों ने लूटे 80 हजार रु.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गुड़गांव से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 4, 2019, 10:46 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...