लाइव टीवी

चुनावों में बढ़ी पहलवान और बाउंसरों की डिमांड, प्रतिदिन के हिसाब से मिल रहे 2 से 10 हजार

Neeraj Ambawata | News18 Haryana
Updated: October 11, 2019, 11:39 AM IST
चुनावों में बढ़ी पहलवान और बाउंसरों की डिमांड, प्रतिदिन के हिसाब से मिल रहे 2 से 10 हजार
बाउंसर और पहलवानों की मांग में इजाफा

पहलवानों और बाउंसरों के रेटों में दो गुना इजाफा हुआ हैं. नेताओं ने भीड़ को कंट्रोल करने और अपना रुतबा बढ़ाने के लिए बाउसरों और पहलवानों को रखना शुरू कर दिया है.

  • Share this:
गुरुग्राम. हरियाणा में विधानसभा चुनावों के चलते बाउंसर्स (Bouncers)और पहलवानों (Wrestlers) की डिमांड बढ़ने लगी हैं. पहलवानों और बाउंसरों  के रेटों में दो गुना इजाफा हुआ हैं. नेताओं (Leaders) ने भीड का कंट्रोल करने और अपना रुतबा बढ़ाने के लिए बाउंसरों और पहलवानों को रखना शुरू कर दिया है.

बता दें कि प्रदेश भर में चुनावी प्रचार अपने चर्म पर हैं. ऐसे में तमाम उम्मीदवार अपनी भीड़ को कंट्रोल करने के साथ अपना टोरा जमाने के लिए बांउसरों और पहलवानों की फौज लेकर अपने-अपने चुनावी दंगल में जुटे हैं. ऐसे में पहलवानों बाउंसर की डिमांड एक बार फिर बढ़  गई हैं.

बाउसंरों की डिमांड में इजाफा


रेटों में दोगुना इजाफा

इसके साथ ही बाउसरों और पहलवानों के रेटों में भी दोगुना इजाफा हुआ हैं. पिछली बार 1 हजार से लेकर 1500 रूपये तक एक दिन के हिसाब से नेता चुनावों में इनको देते थे. लेकिन इस बार 2 हजार रूपये से लेकर 10 हजार तक रूपये इनको मिल रहे हैं.

महिला बाउंसरों की भी डिमांड

ये ही कारण हैं कि तमाम बाउसर जिम में जमकर पसीना निकालने में जुटे हैं ताकि नेताजी के टोरे में कोई कमी ना रहे हैं. इस बार ना केवल गुरूग्राम बल्कि दिल्ली, यूपी और हरियाणा के दूसरे जिलों के पहलवानों और बाउंसरों की डिमांड भी तेज हो गई हैं. इसके अलावा महिला उम्मीदवार और महिलाओं के भीड को कंट्रोल करने के लिए महिला पहलवानों और बाउसरों की डिमांड भी अपने चर्म पर हैं.
Loading...

कुछ नेता महीनों के हिसाब से भी रखते हैं बाउंसर


महीने के हिसाब से भी रखे जाते हैं बाउंसर

पार्टी के नेता कुछ बाउंसर को महीने के अनुसार भी रखते हैं. ऐसे में उनको 30 हजार रुपये से लेकर 45 हजार रुपये तक मिलते हैं. चुनावों में जहां बाउसरों की चांदी होती है तो वहीं नेता इनके जरिए खुद को सुरक्षित महसूस करत हैं. वहीं पुरुष बाउंसर के मुकाबले सिर्फ 18 से 20 प्रतिशत ही महिला बाउंसर की मांग रहती है.

यह भी पढ़ें दादरी:खेतों में उतरेगा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हेलिकॉप्टर,15 को होगी रैली

लंदन की 1 करोड़ वाली नौकरी छोड़ हरियाणा में चुनाव लड़ने उतरीं नौक्षम चौधरी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गुड़गांव से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 11:29 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...