गुरुग्राम सामूहिक हत्याकांड: वैज्ञानिक ने 30 मिनट में खत्म कर दिया था परिवार

Neeraj Ambawata | News18 Haryana
Updated: July 4, 2019, 9:51 PM IST
गुरुग्राम सामूहिक हत्याकांड: वैज्ञानिक ने 30 मिनट में खत्म कर दिया था परिवार
आधे घंटे में पूरे परिवार को कर दिया खत्म

सभी को मौत के घाट उतारना ही डॉ प्रकाश का टारगेट था. इसलिए उसने खुद भी जो फंदा लगाया, वो भी इस तरीके से लगाया कि बचने की कोई गुंजाइश न रह पाए.

  • Share this:
गुरुग्राम के उप्पल साउथ एंड सोसायटी में रहने वाले वैज्ञानिक डॉ. प्रकाश सिंह की आत्महत्या और उनकी पत्नी, बेटे एवं बेटी की हत्या की वजह को लेकर पुलिस अब भी उलझन में है. लेकिन पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों ने काफी और चौंकाने वाले खुलासे किए हैं. डॉक्टरों की मानें तो गहरी नींद में सोते हुए परिवार को मौत के घाट उतारा गया है.

गुरुग्राम के उप्पतल साउथ एंड सोसायटी में परिवार के मुखिया ने अपने ही परिवार के तीन लोगों को मौत के घाट उतार दिया. जबकि खुद भी आत्महत्या कर मौत को गले लगा लिया. इस घटना से पूरे देश को सन्न कर रख दिया हैं. उधर पोस्टमार्टम करने वाली डॉक्टरों की टीम ने बेहद ही चौंकाने वाले और अहम खुलासे किए हैं. पता चला है कि डॉ प्रकाश ने सबसे पहले अपनी पत्नी को मौत के घाट उतारा और उसके बाद बेटी और उसके बाद बेटे को भी मौत के घाट उतार कर खुद आत्महत्या कर ली.

वारदात के समय गहरी नींद में थे पत्नी और बच्चे

इन तीनों की हत्या रात के समय गहरी नींद में 12 बजे से लेकर 2 बजे तक के बीच की गई हैं. जबकि चारों की मौत केवल आधे घंटे के अंदर हुई हैं. यानी डॉ प्रकाश ने इस पूरी वारदात को आंधे घंटे के अंदर ही अंजाम दे दिया है.

पत्नी पर किए 19 वार

पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों की टीम की मानें तो डाॅ प्रकाश ने पूरे परिवार के साथ खाना खाया और जब सभी गहरी नींद में सो गए तो फिर तेजधार हथियार (चाकू) और भारी हथियार (हथौडे़) से पूरे परिवार को मौत के घाट उतार दिया. डॉ प्रकाश ने अपनी पत्नी डॉक्टर सोनू सिंह पर 19 बार वार किया, जिनमें से सभी वार सिर और गर्दन पर थे.

पत्नी के बाद बेटी और बेटे को उतारा मौत के घाट
Loading...

इन 19 वारो में से 15 शार्प वार थे जबकि बाकी ब्लाइंड वार थे. उसके बाद बेटी अदिति पर 12 वार किए जबकि बेटे आदित्य पर 8 वार कर उतारा मौत के घाट दिया गया. ये सभी वार चाकू और हथौडे़ से किए गए.

गुस्से में दिया वारदात को अंजाम

मृतकों के शरीर वर गहरे वारों को देखकर डाक्टरों की टीम को लगता हैं कि डॉ प्रकाश ने काफी गुस्से में अपने परिवार को मौते के घाट उतारा था. डॉ प्रकाश परिवार को डराने और धमकाने के मकसद से परिवार पर जानलेवा हमला नहीं किया बल्कि पूरी सोची-समझी साजिश के तहत इस वारदात को अंजाम दिया.

फंदा लगा की आत्महत्या

सभी को मौत के घाट उतारना ही डॉ प्रकाश का टारगेट था. इसलिए खुद ने भी जो फंदा लगाया था, वो भी इस तरीके से लगाया था कि बचने की कोई गुजांइश न रह पाए. फिलहाल इस वारदात को डॉ प्रकाश ने कहीं नशे में तो अंजाम नहीं दिया, इसके लिए डॉक्टरों की टीम प्रकाश के विसरा रिपोर्ट का इंतजार कर रही है.

ये भी पढ़ें-

लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद मुंह दिखाने लायक नहीं रही कांग्रेस: विज

इनेलो को लगा एक और झटका, सतीश नांदल BJP में हुए शामिल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गुड़गांव से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 4, 2019, 6:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...