गुरुग्राम में सैकड़ों बहुमंजिला कमजोर इमारतें लोगों की जान को बनी हैं खतरा

नगर निगम और टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग को सख्त आदेश जारी किए गए हैं कि गुरुग्राम में ऐसी इमारतों को चयनित किया जाये जो कमजोर निर्माण सामग्री से बनी हुई हैं.

Dharamvir Sharma | News18 Haryana
Updated: February 7, 2019, 9:47 PM IST
गुरुग्राम में सैकड़ों बहुमंजिला कमजोर इमारतें लोगों की जान को बनी हैं खतरा
गुरुग्राम में निर्माणाधीन एक बहुमंजिला इमारत
Dharamvir Sharma | News18 Haryana
Updated: February 7, 2019, 9:47 PM IST
गुरुग्राम के उल्लावास इलाके में इमारत गिरने से हुए बड़े हादसे के बाद अब डिजास्टर मैनेजमेंट की तरफ से सरकार को चेताया गया है कि शहर में अभी भी भारी तादाद में अवैध रुप से ऐसी ही इमारत बनी हुई है. उन सबके खिलाफ भी कार्रवाई की जानी चाहिए. विदित हो कि गुरुग्राम में 24 जनवरी उल्लावास गांव में एक चार मंजिला इमारत गिरने से 7 लोगों की मौत हो गई थी. उस हादसे के बाद प्रशासन सख्ती में नजर आया है.

नगर निगम और टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग को सख्त आदेश जारी किए गए हैं कि गुरुग्राम में ऐसी इमारतों को चयनित किया जाये जो कमजोर निर्माण सामग्री से बनी हुई हैं. इसके अलावा डिजास्टर मैनेंजमेंट की तरफ से हरियाणा सरकार से सिफारिश की गई है कि गुरुग्राम में कई बड़े गांव ऐसे हैं जो अर्बन विलेज की तर्ज पर हैं. यहां लाखों की संख्या में लोग किराये पर रहते हैं. कई गांवों में तो 7 मंजिल तक इमारत भी केवल 60 गज के प्लाट पर बनी हुई हैं जो काफी खतरनाक है.

गुरुग्राम के सिकंदरपुर, नाथूपुर, चकरपुर, बसई, कन्हई, तिगरा, घाटा, मानेसर, आईएमटी मानेसर में दर्जनों गांव ऐसे हैं जहां इसी तरह किराये के लिए कमजोर इमारतें बनाई हुई हैं, जो खतरनाक हैं और गिर सकती हैं. डिजास्टर मैनेजमेंट की तरफ से जो सर्वे कराया गया उसमें इन इमारतों के एक-एक कमरे में 5 से 7 लोग एक साथ रहते हैं. इन कमरों की लंबाई और चौड़ाई काफी कम होती है. इन इमारतों में जो निर्माण सामग्री भी लगाई गई है, वो भी काफी कमजोर हैं जिससे इमारत की मियाद बहुत कम हो जाती है.

यह भी पढ़ें - बलाली में खेल प्रोजेक्ट रद्द करने पर छलका दंगल गर्ल का दर्द, बोलीं- CM साहब करें हस्तक्षेप

यह भी पढ़ें - छत पर टहल रही नाबालिगा को दबोच 3 युवकों ने किया गैंगरेप, दी जान से मारने की धमकी
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...