गुरुग्राम: अप्राकृतिक यौनाचार के बाद लड़के की मौत, पिता के पास नहीं थे अंतिम संस्कार के पैसे, सुनसान जगह छोड़ आया शव

मानसिक रूप से कमजोर लड़के के साथ अप्राकृतिक यौनाचार और मारपीट करने के आरोप में तीन नाबालिग को गिरफ्तार किया गया है. मारपीट के हफ्ते भर बाद लड़के की मौत हो गई.

News18 Haryana
Updated: June 23, 2019, 11:57 AM IST
गुरुग्राम: अप्राकृतिक यौनाचार के बाद लड़के की मौत, पिता के पास नहीं थे अंतिम संस्कार के पैसे, सुनसान जगह छोड़ आया शव
अप्राकृतिक यौनाचार के बाद बच्चे की मौत, पैसे नहीं होने से शव को बस के पीछे छिपाया. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
News18 Haryana
Updated: June 23, 2019, 11:57 AM IST
राजधानी दिल्ली से सटे हरियाणा के गुरुग्राम में मानसिक रूप से विक्षिप्त एक लड़के के साथ अप्राकृतिक यौनाचार करने तथा मारपीट करने के आरोप में शनिवार को तीन नाबालिग बच्चों को गिरफ्तार किया गया. यह मामला गुरुग्राम के अशोक विहार इलाके का है. मौके पर पीड़ित बच्चे के रिक्शा चालक पिता ने बताया कि 14 जून को 3 पड़ोसी नाबालिग लड़कों ने 15 साल के उनके बेटे के साथ अप्राकृतिक यौनाचार किया था. इसके बाद आरोपियों ने पीड़ित बच्चे की जमकर पिटाई की. पिटाई के एक सप्ताह बाद बच्चे की मौत हो गई. 

न्यूज एजेंसी आईएएनएस के अनुसार, मृतक के परिजनों और स्थानीय निवासियों ने कथित तौर पर आरोप लगाया कि पुलिस घटना के तुरंत बाद सूचना देने पर भी सक्रिय नहीं हुई. साथ ही पुलिस ने मामला दर्ज करने से इनकार कर दिया.

रिक्शा चालक पिता के पास नहीं थे अंतिम संस्कार करने के पैसे
स्थानीय निवासियों ने बताया कि रिक्शा चालक पिता के पास अपने बच्चे के अंतिम संस्कार के लिए भी पैसे नहीं थे तो उसने खेड़की दौला नामक सुनसान इलाके में अपने बेटे के शव को डंप कर दिया. मां और पिता ने रिक्शे से अपने बच्चे के शव को इस क्षेत्र में ले आए और बसों के पीछे फेंक दिया.

14 जून को पुलिस ने नहीं लिया मामले का संज्ञान
गुरुग्राम पुलिस के जनसपंर्क अधिकारी (पीआरओ) सुभाष बोकन ने कहा कि मृतक के पिता ने सेक्टर पांच में आस-पास में ही रहने वाले तीन नाबालिग बच्चों द्वारा 14 जून को अपने 15 वर्षीय बेटे को प्रताड़ित किए जाने की सूचना दी थी. उन्होंने बताया कि मृतक मानसिक रूप से विक्षिप्त था. बोकन ने कहा कि हमने तीनों नाबालिगों के खिलाफ पॉक्सो अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया है.

बहुत समझाने के बाद पैरेंट्स ने बच्चे का शव दफनाने की बात कबूली
Loading...

यह मामला तब खुला जब पीड़ित बच्चे का हाल पूछने के लिए पड़ोसी महिलाएं उसके घर पहुंचीं तो मृतक के पैरेंट्स ने बताया कि उनका बच्चा अपने नाना के यहां गया हुआ है. इस उत्तर से महिलाएं संतुष्ट नहीं हुईं. अनुनय-विनय और समझाकर पूछने पर पीड़ित माता-पिता ने बता दिया कि, वे अपने बच्चे के शव को खेड़की दौला क्षेत्र में दफना चुके हैं.

पुलिस ने शुरू में नहीं लिया आरोपियों पर कोई एक्शन: पीड़ित पिता
पीड़ित पिता ने कहा, 'शुरू में पुलिस ने इस मामले में आरोपियों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया. हमारे पास पुलिस के खिलाफ कानूनी प्रक्रिया शुरू करने के लिए पैसे नहीं थे, इसलिए हमने अपने बच्चे के शव को डंप कर दिया.'

एनजीओ ने शव को दोबारा निकलवाने में मदद की
एनजीओ और स्थानीय महिलाएं खेड़की दौला क्षेत्र में पहुंचीं और उन्होंने शव को बाहर निकाला. सामाजिक कार्यकर्ता पूजा ने कहा, 'हमने स्थानीय पुलिस को सूचना दी कि वह शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाएं, लेकिन सुबह 11 बजे तक पुलिस नहीं आई. इसके बाद हमने स्थानीय नेता गजे सिंह कबलाना को फोन किया. गजे सिंह के कहने के बाद पुलिस पीड़ित के घर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए ले गई.'

आरोपियों को धारा 302 और पॉक्सो एक्ट के तहत किया गया है गिरफ्तार
गुरुग्राम वेस्ट जोन के डीसीपी सुमेर सिंह ने कहा, 'मृतक के परिजनों ने आरोप लगाया कि उनके बच्चे के साथ तीन किशोर लड़कों ने अप्राकृतिक यौनाचार किया है. हमने तीनों आरोपियों को आईपीसी की धारा 302 और पॉक्सो एक्ट के तहत गिरफ्तार कर लिया गया है. हमने शव को पोस्टमार्ट्म के लिए भेज दिया है और रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं.'

ये भी  पढ़ें - 
First published: June 23, 2019, 11:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...