सबसे ज्यादा फूट-फूटकर रोने वाली भतीजी ने ही कराई थी चाचा की प्रेमी के हाथों हत्या

शीतल पिछले 5-6 माह से चाचा राकेश के घर रह रही थी. शीतल और उसके प्रेमी कन्हैया के मेल मिलाप पर चाचा राकेश एतराज जताता था.

Sanjay Kumar | News18 Haryana
Updated: April 3, 2019, 2:21 PM IST
सबसे ज्यादा फूट-फूटकर रोने वाली भतीजी ने ही कराई थी चाचा की प्रेमी के हाथों हत्या
चाचा की हत्या के बाद इस तरह रो रही थी साजिशकर्ता आरोपी भतीजी
Sanjay Kumar | News18 Haryana
Updated: April 3, 2019, 2:21 PM IST
27 मार्च की शाम  सोहना के वार्ड नंबर 9 के जखोपुर में 32 साल के राकेश की अज्ञात हमलावरों ने घर में घुस कर गोली मारकर हत्या कर दी थी. पुलिस ने मौके पर पहुंच शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया. इस मामले में मृतक की भतीजी शीतल के बयानों पर 6 लोगों के खिलाफ नामजद हत्या का मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू की तो पुलिस को एक मोबाइल फोन मिला. पुलिस ने शक के आधार पर फोन की कॉल डिटेल निकलवाई और पुलिस इस तरह शीतल के प्रेमी कन्हैया के गिरेहबान तक पहुंच गई.

राकेश के हत्यारोपी पुलिस हिरासत में




कन्हैया ने पुलिस की पूछताछ के दौरान अपना गुनाह कबूल कर लिया साथ ही हत्या की साजिश रचने वाली शीतल का भी सारा चिठ्ठा पुलिस के सामने खोल दिया. फिलहाल पुलिस ने दोनों आरोपियो को दो दिन के रिमांड पर लिया है. जल्द ही पुलिस साजिशकर्ता आरोपी महिला को भी गिरफ्तार करने के प्रयास में जुटी हुई है. पुलिस के मुताबिक अब तक जांच में पता चला है कि राकेश की हत्या उसकी भतीजी शीतल ने रची थी.

अपने ही चाचा को रास्ते से हटाने के लिए प्रेमी के साथ साजिश कर उसको गोलियों से भुनवा दिया. उसके बाद खुद ही अपने पति सहित 6 रिश्तेदारों पर हत्या का मुकदमा भी दर्ज करा दिया. शीतल का साथ देने वाला आरोपी कहने को पांच बच्चों का पिता है लेकिन शीतल के प्यार में वह इतना पागल था कि उसको कई बार घर से भगाकर ले जा चुका था.

उधर शीतल के कन्हैया से अवैध संबंधों की जानकारी होने पर उसके पति ने उसे छोड़ दिया था. लेकिन उसका पति भी कोई शरीफ आदमी नहीं था, वह शीतल के चाचा राकेश की पत्नी राधा को भगा ले गया और उससे शादी रचा ली. वह अब भी अपने दो बच्चों के साथ शीतल के पति मनीष के साथ रह रही है. मनीष से शीतल का हर्जे-खर्चे और गुजारा भत्ता का मुकदमा चल रहा है.

शीतल पिछले 5-6 माह से चाचा राकेश के घर रह रही थी. शीतल और उसके प्रेमी कन्हैया के मेल मिलाप पर चाचा राकेश एतराज जताता था. उन दोनों ने प्लान बनाया कि अगर चाचा की हत्या कर इल्जाम शीतल के पति, मां, चाची, मामा आदि पर लगा दिया जाए तो वह सब जेल चले जाएंगे और इस तरह पूरा मैदान साफ हो जाएगा. उसके बाद वह दोनों शीतल के दादालाही मकान पर कब्जा करके रहेंगे.

27 मार्च को शीतल दादी को साथ लेकर छाछ लेने के बहाने मकान की बाहर से कुंडी लगाकर चली गई. उसने कन्हैया को बोल रखा था कि घर में राकेश अकेला है. उसके बाद कन्हैया अपने साथियों के साथ आया और राकेश के सिर में गोलियां उतार उसकी हत्या की और फरार हो गया.
Loading...

यह भी पढ़ें - अंबाला में पेड़ से लटका मिला व्यक्ति का शव, जांच में जुटी पुलिस



यह भी पढ़ें - सुपर मॉल सहित अनेक स्पा व समाज पार्लरों पर पुलिस का छापा, जिस्म फरोशी का चल रहा था धंधा
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...