हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019: क्या कांग्रेस-बसपा का 'वोट गणित' रोक पाएगा बीजेपी का विजय रथ?

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 1:45 PM IST
हरियाणा विधानसभा चुनाव 2019: क्या कांग्रेस-बसपा का 'वोट गणित' रोक पाएगा बीजेपी का विजय रथ?
बसपा प्रमुख मायावती और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के बीच अच्छे संबंध हैं! (File Photo)

Haryana Assembly Election 2019: कांग्रेस और बसपा साथ आए तो हरियाणा की राजनीति में क्या बदलेगा? बसपा (BSP) को यहां मिलते रहे हैं 7-8 फीसदी वोट!

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 9, 2019, 1:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. हरियाणा विधानसभा चुनाव  (Haryana Assembly Election) जीतने के लिए बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) दोनों ने जोर आजमाइश शुरू कर दी है. भूपेंद्र सिंह हुड्डा (Bhupinder Hooda) के हाथ प्रदेश कांग्रेस की कमान आने के बाद हालात कुछ बदलते नजर आ रहे हैं. बहुजन समाज पार्टी (BSP) और कांग्रेस में चुनाव के लिए समझौते की अटकलें लगाई जा रही हैं. बताया जा रहा है कि रविवार देर रात पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा और प्रदेश अध्यक्ष कुमारी शैलजा (Selja Kumari) ने बीएसपी सुप्रीमो मायावती से की मुलाकात की है. कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और मायावती के बीच राजनीतिक समझदारी समय-समय पर दिखती रही है. राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि अगर दोनों पार्टियों का गठबंधन हो जाता है तो फिर बीजेपी की राह उतनी आसान नहीं होगी, जितनी पहले लग रही थी.

दरअसल, हरियाणा की सियासत जाटों के इर्द-गिर्द घूमती रही है. चौटाला परिवार में फूट के बाद इंडियन नेशनल लोकदल (INLD) बिखर चुकी है. इनेलो जाटों की सबसे बड़ी पार्टी मानी जाती थी. ऐसे में अब पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा खुद को हरियाणा में सबसे बड़े जाट लीडर के रूप में स्थापित करने की कोशिश में जुटे हुए हैं. दूसरी ओर बीजेपी से जाट नाराज बताए जाते हैं, क्योंकि उसने गैर जाट सीएम बनाया. यही नहीं हरियाणा की नौकरशाही में जाट अधिकारी साइडलाइन हैं. हालांकि, बीजेपी ने प्रदेश अध्यक्ष जाट समाज से ही बनाया हुआ है.

 Haryana Assembly Election 2019, हरियाणा विधानसभा चुनाव, vidhan sabha chunav, bjp, बसपा, bsp, mayawati, मायावती, बीजेपी, bjp, जेजेपी, jjp, जेजेपी, inld, इनेलो, MLA, विधायक, election commission, चुनाव आयोग, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, PM narendra modi, मनोहरलाल खट्टर, Manohar Lal Khattar, कांग्रेस, Congress, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, Bhupinder Hooda, कुमारी सैलजा, Selja Kumari, congress bsp alliance, बसपा-कांग्रेस गठबंधन, Jat vote bank, जाट वोटबैंक, Dalit, दलित
बीजेपी ने हरियाणा में 75 से अधिक सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है


हरियाणा के वरिष्ठ पत्रकार नवीन धमीजा कहते हैं कि अगर कांग्रेस और बसपा का गठबंधन हुआ तो स्थितियां बदल जाएंगी. हरियाणा में करीब 25 से 27 फीसदी जाट और 20.17 फीसदी दलित आबादी है. कांग्रेस ने कुमारी शैलजा को प्रदेश अध्यक्ष बनाकर पहले ही दलितों को साधे रखने की कोशिश की है. जाट और दलित दो वोटबैंक साथ लाने के लिए ही समझौते की कोशिश हो रही है और यह बसपा से अधिक कांग्रेस के लिए फायदेमंद साबित होगा.

बसपा और उसका गठबंधन
विधानसभा चुनाव के लिए बहुजन समाज पार्टी ने 2018 में इनेलो से गठबंधन किया था. लेकिन जैसे ही दिसंबर में इनेलो से टूटकर जन नायक जनता पार्टी (जेजेपी) बनी तो बसपा ने उससे किनारा करना उचित समझा. यह अलग बात है कि बसपा सुप्रीमो मायावती ने इनेलो नेता अभय चौटाला को राखी बांधी थी. लेकिन स्थितियां बदलते ही इनेलो से राजनीति का बंधन तोड़ने में देर नहीं लगाई. इसके बाद बसपा ने हाल ही में जेजेपी से समझौता किया. लेकिन यह गठबंधन भी 6 सितंबर तोड़ दिया. अब उसकी कांग्रेस से गठबंधन की बातचीत चल रही है. देखना यह है कि गठबंधन होने के बाद कब तक चलेगा?

Haryana Assembly Election 2019, हरियाणा विधानसभा चुनाव, vidhan sabha chunav, bjp, बसपा, bsp, mayawati, मायावती, बीजेपी, bjp, जेजेपी, jjp, जेजेपी, inld, इनेलो, MLA, विधायक, election commission, चुनाव आयोग, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, PM narendra modi, मनोहरलाल खट्टर, Manohar Lal Khattar, कांग्रेस, Congress, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, Bhupinder Hooda, कुमारी सैलजा, Selja Kumari, congress bsp alliance, बसपा-कांग्रेस गठबंधन, Jat vote bank, जाट वोटबैंक, Dalit, दलित
भूपेंद्र सिंह हुड्डा: जाटों के सबसे बड़े नेता के तौर पर स्थापित करने की कोशिश

Loading...

हरियाणा में बसपा और उसका वोटबैंक

हरियाणा में विधानसभा की 90 सीटें हैं. ज्यादा दलित आबादी होने की वजह से यहां पर बसपा लंबे समय से अपने प्रत्याशी खड़े करती रही है. उसे 7-8 प्रतिशत वोट भी मिलते रहे हैं. लेकिन कभी एक से अधिक विधायक नहीं बना. आमतौर पर उसके विधायक सत्ताधारी पार्टी को समर्थन देते रहे हैं. 2014 में फरीदाबाद की पृथला विधानसभा सीट से उसका एक विधायक बना था, जो जीतने के बाद से ही भाजपा के साथ हो गया था. फिलहाल वो अब विधिवत बीजेपी में शामिल हो चुका है. कांग्रेस को इसी 7-8 फीसदी वोट की दरकार है.

उधर, बीजेपी प्रवक्ता राजीव जेटली का कहना है कि अगर कांग्रेस और बसपा में गठबंधन हुआ तो उसका भी हाल वैसा ही होगा जैसा यूपी में सपा के साथ हुआ था. जहां तक जातीय गणित की बात है तो सभी वर्ग बीजेपी के साथ हैं. हम 75 से अधिक सीटें जीतेंगे. जहां तक जाट और दलित वोटबैंक की बात है तो आज के दौर में कोई नेता किसी जाति की ठेकेदारी नहीं ले सकता. इसी तरह की ठेकेदारी लेने का भ्रम जनता ने यूपी में तोड़ दिया था.

ये भी पढ़ें:

हरियाणा विधानसभा चुनाव: शुरू हुआ आयाराम-गयाराम का खेल, बिखर गई इनेलो!

अजब-गजब: यहां एक साल में 4 बार प्रेग्नेंट हो गईं महिलाएं! CBI कर रही जांच

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 12:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...