2000 रिटेल आउटलेट खोलेगी हरियाणा सरकार, हर महीने 10 हजार का मुनाफा कमाएंगे युवा
Chandigarh-City News in Hindi

2000 रिटेल आउटलेट खोलेगी हरियाणा सरकार, हर महीने 10 हजार का मुनाफा कमाएंगे युवा
हरियाणा सरकार रिटेल आउटलेट खोलेगी (प्रतीकात्मक फोटो-moneycontro)

पिछले दिनों कृषि नलकूपों के लिए बिजली निगमों के पास जमा की गई सिक्योरिटी किसानों को ब्याज सहित लौटाएगी सरकार

  • Share this:
चंडीगढ़. हरियाणा सरकार गांवों व शहरों में 2000 ‘रिटेल आउटलेट’ खोलेगी. जिनमें युवा अपनी योग्यता व हुनर के अनुसार काम पा सकेंगे. ये ‘रिटेल आउटलेट’ मिनी सुपर मार्केट के रूप में कार्य करेंगे. इसमें काम करने वाले युवाओं को महीने में कम से कम दस हजार रुपए का मुनाफा होगा. इस बात की जानकारी प्रदेश के सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल ने दी है.

मंत्री ने कहा कि लोगों को लाभ पहुंचाने के लिए किसान क्रेडिट कार्ड की तर्ज पर पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना (pashu kisan Credit Card Scheme) लागू की गई है, ताकि पशुपालकों को कर्ज मिलने में कोई परेशानी न हो. उन्होंने दावा किया कि किसानों को फसली ऋण जीरो प्रतिशत पर उपलब्ध करवाया जा रहा है.  आमतौर पर फसल ऋण पर ब्याजदर 7 प्रतिशत होती है. जिसमें 3 प्रतिशत केंद्र सरकार तथा 4 प्रतिशत राज्य सरकार वहन करती है.

ये भी पढ़ें: बिना गारंटी मिलेगा 1.80 लाख का लोन, सिर्फ तीन कागजों की जरूरत



डॉ. बनवारी लाल ने कहा कि राज्य में एक हजार स्मार्ट प्ले-वे स्कूल खोले जाएंगे, जिनमें 3 से 6 वर्ष तक के बच्चों के लिए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मिलेगी. प्राथमिक विद्यालयों में बने आंगनवाड़ी केंद्रों को स्मार्ट लर्निंग प्ले-वे स्कूलों में बदला जाएगा. एनिमेशन व ऑडियो विजुअल द्वारा शिक्षा दी जाएगी.
Farmers news, mera pani meri virasat scheme, haryana government, kisan news in hindi, rice, paddy profile, agriculture, India Water Crisis, water consumption in agriculture, Haryana government discourage paddy crop, ground water level, किसान समाचार, हरियाणा सरकार, धान की खेती, चावल, भारत में जल संकट, कृषि में पानी की खपत, भूजल स्तर, मेरा पानी मेरी विरासत
खट्टर सरकार ने किसानों को प्रेरित किया


धान की फसल न लगाने पर बड़ी सफलता

मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने कहा कि ‘मेरा पानी-मेरी विरासत’ योजना का कुछ लोग विरोध कर रहे थे इसके बावजूद इसमें सफलता मिली है. सरकार ने एक लाख हैक्टेयर क्षेत्र में धान के स्थान पर अन्य कम पानी वाली फसलें की बुआई करने का लक्ष्य रखा था. लेकिन किसानों (farmers) ने योजना के महत्व को समझा और 1,18,128 हैक्टेयर क्षेत्र में धान की फसल न लगाने के लिए रजिस्ट्रेशन करवाया.

ये भी पढ़ें: क्या कोरोना संकट के बीच 2022 तक दोगुनी हो पाएगी किसानों की आय?

स्कूलों, कॉलेजों में होगी स्वायल हेल्थ की जांच

सीएम ने बताया कि स्वायल हेल्थ कार्ड (soil health card) किसान को उनके नजदीक उपलब्ध हो, इसके लिए स्कूलों व कॉलेजों की प्रयोगशालाओं में पानी व मिट्टी की जांच की जाएगी. ये कार्ड पूरे प्रदेश में 70 लाख एकड़ क्षेत्र के लिए हर तीन साल में जारी किए जाएंगे ताकि किसान को उसकी भूमि की उर्वरा शक्ति की जानकारी हो और उसके अनुसार वह फसल की बिजाई कर सके.



ब्याज सहित लौटाई जाएगी सिक्योरिटी

-सीएम ने बताया कि पिछले कुछ दिनों में 13-14 हजार कृषि नलकूपों के बिजली कनैक्शन (Electricity connection) जारी किए गए हैं. दस हॉर्सपावर की मोटर किसान अपनी मर्जी से खरीद सकता है. अगर किसान ने बिजली निगमों के पास सिक्योरिटी जमा करवा दी है तो उसे ब्याज सहित लौटाया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज