हिसार: किसान नेताओं को हिरासत में लिए जाने से गुस्साए किसानों ने रामायण टोल किया जाम

रामायण टोल पर धरने पर बैठे किसान

रामायण टोल पर धरने पर बैठे किसान

Kisan aandolan: किसानों ने कहा कि मामला दर्ज तो विधायक पर होना चाहिए था. क्योंकि उन्होंने किसानों को भडक़ाने के साथ दुर्व्यव्यवहार करने का काम किया था

  • Share this:

हिसार. टोहाना में विधायक देवेन्द्र बबली (Devender Babli) के आवास का घेराव करने के लिए पहुंचे किसानों को पुलिस द्वारा गिरफ्तार किये जाने के विरोध में किसानों (Farmers) ने बुधवार शाम को हिसार-दिल्ली रोड पर रामायण टोल प्लाजा को जाम कर दिया. जाम लगने से हाईवे पर वाहनों की लंबी-लंबी कतार लग गई. गौरतलब रहे कि मंगलवार को टोहाना में किसानों ने विधायक देवेन्द्र बबली का काले झंडों के साथ विरोध प्रदर्शन किया था उस दौरान किसानों पर विधायक की शिकायत पर मामला दर्ज होने की बात सामने आई थी.

वहीं किसानों ने कहा कि आज भाजपा गठबंधन सरकार किसानों के साथ नांइसाफी करने पर तुली हुई हैं जिसे देश का किसान किसी भी कीमत पर सहन नहीं करेंगा. उन्होंने कहा कि मामला दर्ज तो विधायक पर होना चाहिए था क्योंकि उन्होंने किसानों को भडक़ाने के साथ दुर्व्यव्यवहार करने का काम किया था. किसान नेता मलिक ने कहा कि किसान तीन कृषि अध्यादेशों के खिलाफ अपनी मांगों को लेकर 6 महीने से आंदोलनरत हैं मगर सरकार उनकी मांगों को तो मान नहीं रही मगर आएं दिन किसानों पर मामला दर्ज करने पर लगी हुई हैं.

उन्होंने कहा कि किसान जब शांतिपूर्वक सरकार का विरोध कर रहे हैं तो उनके खिलाफ मामला दर्ज क्यों किया जा रहा हैं यह सरकार हिटलर शाही पर उतारू हो गई हैं जिसे हम किसी भी कीमत पर सहन नहीं करेंगे. उन्होंने कहा अब माफी से काम नहीं चलने वाला और जब तक विधायक के खिलाफ मामला दर्ज नहीं होगा हमारा आंदोलन जारी रहेगा. वहीं किसान नेता इच्छा पूरी महाराज ने कहा कि यह सरकार दिशाहिन हो चुकी हैं उनको कुछ दिखाई नहीं दे रहा, सिर्फ किसान दिखाई दे रहे हैं ओर उनको ही लगातार परेशान करने में लगे हुए हैं.

उन्होंने कहा कि विधायक देवेन्द्र बबली को हमने भारी वोटों से विजय बनाने का काम किया था और आज वहीं विधायक किसानों की माताओं व बहनों को गंदी -गंदी गालियां देने में लगा हुआ हैं. जबकि सरकार का नारा हैं बेटी बचाओं ,बेटी पढ़ाओं क्या इसी नारे को लेकर आगे बढ़ रही हैं आज हमारी माताओं बहनों को जो गालियां विधायकों द्वारा दी जा रही हैं. किसानों द्वारा सिर्फ एमरजेंसी सेवाओं को ही बहाल किया हुआ था बाकि सभी वाहनों को नहीं जाने दिया जा रहा था.
किसानों को हिरासत में लिया

सैकड़ों किसानों को लिया हिरासत में रामायण टोल प्लाजा के इंचार्ज व जिला किसान यूनियन के अध्यक्ष कुलदीप खरड़ ,दशरथ मलिक ,विकास सिसर व दीपू मलिक सहित रामायण टोल प्लाजा के 20 किसानों को हिरासत में लिया गया हैं. वहीं अन्य जिलों सहित सैकड़ों किसानों को टोहाना में पुलिस द्वारा हिरासत में लिया गया हैं. वहीं किसानों का कहना हैं कि जब तक हमारे नेताओं को रिहा नहीं किया जाता हम जाम को नहीं खोलेंगे.

भारी संख्या मे पहुंचा पुलिस बल



जैसे ही किसानों द्वारा रामायण टोल प्लाजा की जाम की सूचना पुलिस को मिली तो भारी संख्या में पुलिस बल रामायण टोल प्लाजा पर पहुंच गया. पुलिस ने जाम की स्थिति से निपटने के लिए हांसी बाईपास चौक पर बैरिकेड्स लगाकर वाहनों को टोल पर जाने से रोका और उनको डायवर्ट कर दिया ताकि वह कच्चे रास्तों से होते हुए अपने गंतव्य पर पहुंच सके. जाम के बाद सडक़ पर ट्रकों की लंबी-लंबी कतारे लग गई.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज