भाटला सामाजिक बहिष्कार केस: SC के जस्टिस सूर्यकांत ने खुद को मामले से किया अलग, कही ये बात

अगले हफ्ते मामले की सुनवाई होगी. . (सांकेतिक फोटो)
अगले हफ्ते मामले की सुनवाई होगी. . (सांकेतिक फोटो)

भाटला गांव के चर्चित सामाजिक बहिष्कार (Social Exclusion) के मामले में सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस सूर्यकांत ने खुद को मामले से अलग कर लिया और बताया कि भाटला उनके गांव के पास है. अब अगले हफ्ते केस की सुनवाई होगी.

  • Share this:
हांसी. भाटला गांव के चर्चित सामाजिक बहिष्कार (Social Exclusion) के मामले की सीबीआई (CBI) जांच की मांग से संबंधित याचिका पर मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में वर्चुअल सुनवाई हुई. सर्वोच्च न्यायालय में जस्टिस रमन्ना और जस्टिस सूर्यकांत की बेंच के समक्ष याचिकाकर्ताओं की तरफ से सीनियर एडवोकेट कॉलिंन गोंसाल्वेस और रजत कलसन पेश हुए. अधिवक्ता रजत कलसन ने बताया कि सुनवाई के दौरान पीड़ित पक्ष ने अदालत को बताया कि मामला हरियाणा के गांव भाटला में दलित समाज के सामाजिक बहिष्कार से जुड़ा है , तो बेंच के सदस्य जस्टिस सूर्यकांत ने पीड़ित पक्ष के अधिवक्ता को बीच में ही रोकते हुए कहा कि गांव भाटला उनके गांव पेटवाड से कुछ ही दूरी पर है. इसलिए वह इस मामले से खुद को अलग कर रहे हैं, जिसके बाद मामले की सुनवाई बेंच द्वारा स्थगित कर दी गई.

अब मामले की सुनवाई अगले सप्ताह लिस्ट होने के आसार 

कलसन ने बताया कि भाटला के सामाजिक बहिष्कार प्रकरण के मामले में गांव के अनुसूचित जाति से संबंध रखने वाले अजय भाटला, जयभगवान सोडी, सुनील, विकास तथा अमिताभ दहिया ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर सामाजिक बहिष्कार मामले में सीबीआई जांच की मांग की थी. इस पर अदालत ने पिछली सुनवाई के दौरान भारत सरकार, हरियाणा सरकार, सीबीआई तथा सामाजिक बहिष्कार की आरोपी भाईचारा कमेटी को तलब कर लिया था तथा सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में विशेष जांच टीम गठित करने के लिए याचिकाकर्ताओं तथा हरियाणा सरकार से चार- चार पुलिस अधिकारियों के नाम मांगे थे जिस पर याचिकाकर्ताओं ने यह नाम पहले ही सुप्रीम कोर्ट में दाखिल कर दिए थे.



ये भी पढ़ें: बिहार चुनाव: नए मतदाताों के लिए खुशखबरी, ऐसे होगी वोटर ID कार्ड की फ्री Home Delivery
हरियाणा सरकार की तरफ से यह नाम अभी तक नहीं दाखिल किए गए है. अधिवक्ता कलसन ने बताया कि मंगलवार की सुनवाई महत्वपूर्ण थी तथा आज महत्वपूर्ण फैसला आने के आसार थे. लेकिन जस्टिस सूर्यकांत के खुद को मामले से अलग करने के चलते सुनवाई स्थगित हो गई. कलसन ने बताया कि अब इस मामले में अगले सप्ताह सुनवाई होने के पूरे आसार हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज