हिसार: गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी के कंप्यूटर साइंस विभाग ने तैयार की कोरोना हेल्प एप
Hisar News in Hindi

हिसार: गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी के कंप्यूटर साइंस विभाग ने तैयार की कोरोना हेल्प एप
गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी

इस एप के माध्यम से संस्था (organization) पता कर सकती है की जिस घर में राशन दिया जा रहा है उसमें पिछली बार राशन (ration) कब दिया गया था और किस संस्था द्वारा दिया गया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2020, 3:13 PM IST
  • Share this:
हिसार. लॉकडाउन में प्रशासन और संस्थाओं की तरफ बांटे जा रहे सूखे राशन के भंडारण और जरूरतमंद तक ना पहुंच पाने की  आम जनता की परेशानी को देखते हुए जीजेयू यूनिवर्सिटी के कंप्यूटर साइंस विभाग (Computer Science Department) ने एंड्रायड एप्लीकेशन डिजाइन की है. ये एप गरीब लोगों को राशन बांटने की प्रक्रिया में अहम रोल अदा करेगी. इससे जरूरतमंद परिवार (Family) को खाने का राशन मिल पाएगा. जैसे कि कई बार दानदाता या दानी एक ही जगह पर राशन कई बार बांट देते हैं और जिनको असल में जरूरत होती है वह रह जाते हैं. यह एप्लीकेशन दान देने वाले को कुछ डिटेल दान देते समय ही दिखा देगा कि उस परिवार को पहले कितना राशन मिला था कब और कितने दिन के लिए दिया गया था और किसके द्वारा दिया गया था. इससे राशन को सही तरीके से बांटा जा सकेगा.

गुरु जम्भेश्वर विश्विधालय के कुलपति टंकेश्वर कुमार ने कहा की लॉकडाउन के दौरान सामाजिक समस्याओं को देखते हुए इस एप को बनाने वाले शिक्षक और छात्रों का धन्यवाद करते है. उन्होंने कहा की इस एप के माध्यम से छोटे गली मुहल्लों के दुकानदार ग्राहकों से जुड़ सकते है और ग्राहकों को अपनी गली मुहल्ले के दुकानदारों से संपर्क में होंगे.

25 दुकानदारों ने रजिस्टर किया



कंप्यूटर साइंस विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर सुनील कुमार ने बताया की एप में 45 दुकानदार रजिस्टर कर चुके है. 20 ऑर्डर बुक किए जा चुके है. वहीं लगभग 150 ग्राहकों ने एप को डाउनलोड किया है. इस एप को हिसार, सिरसा, हांसी और कुरुक्षेत्र जिले के लोग शामिल है. उन्होंने बताया की छोटे दुकानदारों की डिटेल ग्राहक के पास नहीं होती और इसके कारण ग्राहक को दूर जाना पड़ता है और छोटे दुकानदार का सामान नहीं बिकता ऐसे में इस एप का विचार आया. प्रशासन की तरफ से होलसेल दुकानों की जानकारी दी गई है. ऐसे में उस दुकान पर काफी भीड़ लग जाती है.
ऐप की दूसरी विशेषता

इस ऐप की दूसरी विशेषता यह है कि यह उन सभी छोटे-मोटे दुकानदारों को जोड़ेगा जिससे हर एक दुकानदार आर्डर प्राप्त कर सकेगा. इस ऐप में ग्राहक अपनी सुविधा अनुसार सामान की डिटेल लिखकर दुकानदार को भेज सकता है. अगर दुकानदार को कुछ समझ नहीं आ रहा हो तो वह ग्राहक को सीधा फोन करके पूछ भी सकता है जिसके जिससे आम आदमी को भीड़भाड़ वाले इलाकों में जाने से रोका जा सकता है. साथ ही सभी छोटे बड़े दुकानदारों का काम भी चलता रहेगा.

ये भी पढ़़े़ें:  इस गांव ने कायम की दान देने की मिसाल, कोराना से जंग के लिए सौंपा 1 करोड़ रुपये का चेक! 

इस नेक काम के लिए 1,00,000 हैक्टेयर में धान नहीं पैदा करेगा यह राज्य 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज