Assembly Banner 2021

किसानों से मिलने पहुंचे सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने किया BJP पर हमला, कहा- महंगाई ने निकाला तेल, सरकार हुई फेल

किसानों को संबोधित करते हुए दीपेंद्र हुड्डा

किसानों को संबोधित करते हुए दीपेंद्र हुड्डा

किसानों से मिलने पहुंचे कांग्रेस के साांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि इस सरकार से युवा रोज़गार मांग रहे तो बीजेपी महंगाई का वार कर रही है. हरियाणा के किसानों से अपनी फसल बर्बाद न करने की अपील की.

  • Share this:
हिसार. कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा (Deepender Hooda) मंगलवार को हिसार (Hisar) के कई सामजिक कार्यक्रमों में शिरकत करने पहुंचे. वे मय्यड़ टोल, लांधड़ी चिकनवास टोल, मदीना टोल पर लगे किसान धरने में आंदोलनरत किसानों (Farmers) के बीच पहुंचे और उनका हालचाल पूछा व हौसला बढ़ाया. उन्होंने कहा कि पिछले 3 महीने में किसान में बहुत बड़ी अग्निपरीक्षा दी है. सैंकड़ों जाने गंवाने व अपमानजनक बोल सहने के बावजूद किसान एक इंच भी संयम, शांति, अनुशासित संघर्ष के रास्ते से भटके नहीं. लेकिन, सरकार इतने उदार अन्नदाता से ऐसा व्यवहार क्यों कर रही है.

इस दौरान दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि भाजपा राज में किसान की हालत आमदनी अठन्नी और खर्चा रुपैया वाली हो गयी है. सरकार महंगाई का पोषण और किसान का शोषण कर रही है. डीजल, पेट्रोल, खाद, घरेलु रसोई गैस आदि के बढ़ते दाम रुकने का नाम ही नहीं ले रहे. आना-जाना, खाना-रहना भी दुश्वार हो गया है.

युवा रोज़गार मांग रहे तो बीजेपी सरकार महंगाई का वार कर रही



उन्होंने कहा कि युवा रोज़गार मांग रहे तो बीजेपी सरकार महंगाई का वार कर रही है. आज भी सीएनजी और पीएनजी के दाम बढ़ा दिये गये. आर्थिक मंदी, बेरोज़गारी और लगातार घटती कमाई के चलते लोगों को अब गंभीर आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है.
किसानों से की अपील

दीपेंद्र हुड्डा ने हरियाणा में किसानों द्वारा लगातार खेतों में खड़ी फसल नष्ट करने की खबरों पर सभी किसानों से अपील करते हुए कहा कि वे कड़ी मेहनत से अन्न उपजाकर देश के आम गरीब का पेट भरते हैं. देश के नागरिकों की खातिर किसान अपनी फसल नष्ट करने जैसा कदम न उठाएं. क्योंकि, 225 से ज्यादा किसानों की कुर्बानियों के बावजूद जिस बेदर्द सरकार की इंसानियत नहीं जागी, उसे फसल नष्ट होने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा. किसान अपने हक के इस संघर्ष को संयम और हौसले से जरुर जीतेंगे. अखिरकार इस संवेदनहीन सरकार को झुकना ही होगा.

बातचीत शुरू करने की जिम्मेदारी भी सरकार की

धरनास्थल पर बातचीत के दौरान सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि तीन महीने से भी ज्यादा समय से किसान सड़कों पर बैठे हैं. लेकिन बहुमत और सत्ता के घमंड में चूर सरकार राजहठ कर रही है. उन्होंने कहा कि सरकार और किसानों के बीच गतिरोध को समाप्त करने के लिये सरकार पहल करे. क्योंकि, किसानों के साथ पिछले बार अंतिम दौर की बातचीत को अधर में छोड़कर सरकार भागी थी और किसान 5 घंटे तक इंतज़ार करते रहे. इसलिए, अब बातचीत शुरू करने की जिम्मेदारी भी सरकार की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज