सपना था BSF जॉइन करने का, पहुंच गए सलाखों के पीछे

News18 Haryana
Updated: August 22, 2019, 11:55 AM IST
सपना था BSF जॉइन करने का, पहुंच गए सलाखों के पीछे
कम्प्यूटर में बायोमीट्रिक हाजिरी लगने और फोटो का मिलान करने पर दोनों आपस में नहीं मिले, जिससे मनोज और पवन की पोल खुल गई.(सांकेतिक तस्वीर)

मनोज कुमार पढ़ाई में होशियार और पवन कुमार फिजिकली स्ट्रांग है.मनोज कुमार ने पवन की जगह टेस्ट दिया और उसे पास करवाया. मनोज कुमार की जगह पवन फिजिकल टेस्ट देने गया और पकड़ा गया.

  • Share this:
हरियाणा के रहने वाले पवन कुमार और मनोज कुमार के सपने तो थे सेना में भर्ती हो कर देश की सेवा करने के, लेकिन इसके लिए उन्होंने जो कदम उठाया वो इन्हें सलाखों के पीछे ले गया. मामले का खुलासा तब हुआ जब मनोज कुमार की जगह पवन कुमार फिजिकल टेस्ट देने पहुच गया. यहां दौड़ के बाद कम्प्यूटर में बायोमीट्रिक हाजिरी लगने और फोटो का मिलान करने पर दोनों आपस में नहीं मिले, जिससे उनकी पोल खुल गई.

फरार मनोज की तलाश जारी

हिसार में सिरसा रोड स्थित बीएसएफ कैंप में अर्धसैनिक बलों में सिपाही की भर्ती प्रक्रिया जारी है. इसी दौरान फिजिकल टेस्ट में मनोज के स्थान पर पवन शामिल हो गया, लेकिन इनकी होशियाही पकड़ी गई. पवन कुमार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, जबकि मनोज कुमार की तलाश जारी है. मनोज कुमार झज्जर जिले के मातनहेल का रहने वाला है पुलिस को उम्मीद है कि मनोज कुमार को भी जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

सेना भर्ती, फर्जीवाड़ा, पुलिस जांच में जुटी, बायोमीट्रिक हाजिरी, बीएसएफ कैंप, Army recruitment, forgery, police investigation, biometric attendance, BSF camp
पवन को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, जबकि मनोज अभी फरार है.(सांकेतिक तस्वीर)


इस मामले की जांच कर रहे अधिकारी एसआई रमेश कुमार के बताया कि पवन कुमार और मनोज कुमार दोस्त हैं. मनोज कुमार पढ़ाई में होशियार और पवन कुमार फिजिकली स्ट्रांग है. दोनों ने अर्धसैनिक बल में सिपाही पद पर भर्ती के लिए आवेदन किया था. कुछ माह पहले भर्ती परीक्षा के लिए ऑनलाइन टेस्ट हुआ था. दोनों के ही अलग-अलग सेंटर आए थे. मनोज कुमार ने पवन की जगह टेस्ट दिया और उसे पास करवाया था. जिसमें 80 से अधिक नंबर आए थे. अब मनोज कुमार की जगह पवन कुमार को फिजिकल टेस्ट देना था. जिसके लिए वह सिरसा रोड स्थित बीएसएफ कैंप में आया था.

सेना भर्ती, फर्जीवाड़ा, पुलिस जांच में जुटी, बायोमीट्रिक हाजिरी, बीएसएफ कैंप, Army recruitment, forgery, police investigation, biometric attendance, BSF camp
सेना भर्ती परीक्षा (फाइल फोटो)


यहां दौड़ के बाद कम्प्यूटर में बायोमीट्रिक हाजिरी लगवाई और फोटो का मिलान किया तो दोनों के फोटो मिस मैच थे, यानि आपस में नहीं मिले और उसकी पोल खुल गई. भर्ती बोर्ड के अधिकारियों के पूछताछ करने पर पवन कुमार ने कबूला कि दोस्त मनोज कुमार की जगह वह फिजिकल टेस्ट क्लियर करने आया था. उसने बताया कि वे दोनों सोल्जर बनना चाहते थे जिसके लिए काफी समय से कोचिंग भी ले रहे थे, लेकिन पवन लिखित परीक्षा में पास नहीं हो पाता था और मनोज हमेशा फिजिकल टेस्ट में पिछड़ जाता था. ऐसे में वे एक-दूसरे के लिए एग्जाम सोल्वर बन गए थे.
Loading...

इस मामले में सिर्फ ये दोनों ही लिप्त है या कोई गिरोह भी सक्रिय है. पुलिस मामले के हर पहलू पर जांच कर रही है. हालांकि पुलिस की प्रारंभिक जांच में अभी तक किसी गिरोह के होने की बात सामने नहीं आई है.

ये भी पढ़ें-  "अवैध संबंधों" के शक में महिला और उसके दलित प्रेमी की पिटाई, फिर मुह काला कर गांव में घुमाया

ये भी पढ़ें- दिव्यांग मां की 3 साल की बच्ची को उठा ले गए दो युवक, सुनसान जगह ले जाकर किया रेप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए हिसार से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 22, 2019, 11:49 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...