अपना शहर चुनें

States

हरियाणा: पूर्व सैनिकों की किसानों से अपील, गणतंत्र दिवस समारोह में व्यवधान डालने वाले लोगों से रहें सावधान

पूर्व सैनिकों की किसानों से अपील
पूर्व सैनिकों की किसानों से अपील

पूर्व सैनिकों ने विश्वास जताते हुए कहा कि देश के किसान (Farmer) भारत के गणतंत्र दिवस (Republic Day) समारोह में किसी भी प्रकार का व्यवधान डालने वालों को रोकेंगे

  • Share this:
हिसार. देश के पूर्व सैनिकों ने किसान भाइयों (Farmer Brothers) से अपील की है कि वे 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस (Republic Day) समारोह में व्यवधान डालने वाले लोगों से सावधान रहे और भारत की प्रतिष्ठा और गरिमा से जुड़े इस पर्व को धूमधाम से मनाएं. पूर्व सैनिकों ने कहा कि गणतंत्र दिवस समारोह सेना के साथ जुड़ा एक बड़ा पर्व है, जिसमें देश की सैन्य ताकत का प्रदर्शन किया जाता है. राष्ट्र के लिए कुर्बानी देने वाले वीर शहीदों के सर्वोच्च बलिदान के लिए उनकी विधवाओं को इस दिन सर्वोच्च सम्मान से नवाजा जाता है. यदि ऐसे में  राष्ट्रीय पर्व में कोई खलल डालता है, तो इससे सेना का मनोबल प्रभावित होगा.

पूर्व सैनिकों ने विश्वास जताते हुए कहा कि देश के किसान भारत के गणतंत्र दिवस समारोह में किसी भी प्रकार का व्यवधान डालने वालों को रोकेंगे ताकि देश की प्रतिष्ठा और गरिमा पर कोई दाग ना लगे. इस संबंध में रविवार को भारतीय थल सेना, वायु सेना, नौसेना, सीमा सुरक्षा बल तथा सिविल डिफेन्स के सेवानिवृत्त अधिकारियों की एक बैठक का आयोजन किया गया.





बैठक में जनरल, ब्रिगेडियर्स, कमांडर, कर्नल, लेफ्टिनेंट, कैप्टन तथा विंग कमांडर स्तर के अधिकारियों ने भाग लिया. बैठक में परम विशिष्ट, अति विशिष्ट तथा सेना मेडल से सम्मानित लेफ्टिनेंट जनरल विष्णु कांत चतुर्वेदी तथा लेफ्टिनेंट जनरल डीपी वत्स (रिटायर्ड) ने बैठक के बाद बताया कि उनका दृढ़ विश्वास है कि किसान भाई गणतंत्र दिवस समारोह के किसी भी औपचारिक कार्यक्रम में कोई भी व्यवधान नहीं डालेंगे, हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि कुछ लोगों के बयान से असमंजस की स्थिति बनी हुई है. इस असमंजस की स्थिति को जल्द से जल्द खत्म करना होगा.
उन्होंने कहा कि देश के पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री द्वारा दिया गया जय जवान-जय किसान का उद्घोष सिर्फ एक नारा ही नहीं है, बल्कि इस विशाल कृषि प्रधान देश की सच्ची भावना है. देश का सैनिक यदि सीमा पर डटकर शत्रुओं से देश की रक्षा करता है तो भारत का मेहनती किसान अपने खेतों में अनाज उगाकर देशवासियों को खाद्य सुरक्षा प्रदान करता है. देश में जब भी कोई विपत्ति आई है, तब सभी जवान और किसान देश हित में एक साथ खड़े होते हैं. इतिहास गवाह है कि हमारे देश के किसानों ने हर युद्ध में सशस्त्र सेनाओं के साथ कंधे से कंधा मिलाकर उनका साथ दिया है और विजय दिलाने में अपनी अहम भूमिका निभाई है.

पूर्व सैनिकों ने कहा कि किसानों ने हमेशा ही देश की आन, बान और शान में चार चांद लगाए हैं. उन्होंने कहा कि वर्तमान में भारत वर्ष एक साथ कई चुनौतियों का सामना कर रहा है. लद्दाख में तनाव का माहौल है और हमारी सशस्त्र सेनाएं विषम परिस्थितियों में भी डटकर मुकाबला कर रही है. कश्मीर में भी हमारी सेना चुनौती का सामना कर रही है. कोरोना से भी देश जूझ रहा है. देश की आर्थिक स्थिति अब सुधार की दिशा में आगे बढ़ रही है ऐसे में हम सभी का दायित्व है कि इस लड़ाई में हम साथ खड़े होकर देश को विश्व में एक बहुत सम्मानित पायदान पर लेकर जाएं. ऐसे में सभी पूर्व सैनिक अपने किसान भाइयों से विनम्र निवेदन करते हैं कि वह गणतंत्र दिवस समारोह में कोई भी खलल ना पड़ने दें और इस दिशा में अपनी स्थिति को स्पष्ट करते हुए देशवासियों के साथ अपनी पारंपरिक वेशभूषा में दर्शक दीर्घा में बैठकर अपनी सशस्त्र सेनाओं का मनोबल बढ़ाएं व भारत की प्रतिष्ठा, मर्यादा और सम्मान में चार चांद लगा कर देश को गौरवान्वित करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज