हिसार: किसान आंदोलन के दौरान किसान की मौत, विसरा जांच के लिए भिजवाया

किसान की मौत

Farmer Death: क्रांतिमान पार्क पहुंचे एक किसान रामचंद्र खरब की हार्ट अटैक से मौत (Death) हो गई है. मृतक हिसार जिले के उगलन गांव का रहने वाला था.

  • Share this:
हिसार. किसान आंदोलन (Kisan Aandolan) के लिए क्रांतिमान पार्क में एकत्रित होने के लिए गाड़ी में अन्य किसानों के साथ सवार होकर आ रहे एक 70 वर्षीय किसान की मौत (Death) हो गई. किसान आंदोलन के दौरान मौजूद किसानों ने बताया कि उगालन निवासी रिटायर्ड बैंक कर्मी 70 वर्षीय रामचंद्र उनके साथ गाड़ी में सवार होकर हिसार क्रांतिमान पार्क आ रहे थे. उस दौरान मय्यड़ टोल के नजदीक उसकी तबीयत अचानक बिगड़ गई.

इस दौरान उसे लेकर धरनास्थल पर पहुंचे और उसके बाद सिविल अस्पताल लेकर गए. वहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.  मृतक के पोस्टमार्टम करने से पहले रैपिड टेस्ट किया गया, जिसमें कोरोना की रिपोर्ट नेगेटिव मिली.

पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मृतक के शव को कब्जे में लेकर सिविल अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया. जहां शव का पोस्टमार्टम करवा शव परिजनों  को सौंप दिया. हालांकि मौत हार्ट अटैक से बताई जा रही है. लेकिन चिकित्सकों ने शव का विसरा जांच के लिए भिजवाया है. फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है.

विरोध प्रदर्शन करने के लिए पहुंचे थे किसान

बता दें कि हरियाणा के हिसार जिले में सोमवार को हजारों की संख्या में किसान क्रांतिमान पार्क में जमा हुए. इस वजह से शहर छावनी में तब्दील हो गया. इस एकत्रीकरण की वजह गत 16 मई को किसानों और महिलाओं पर लाठीचार्ज थी. इसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने के लिए ही किसान सोमवार को हिसार पहुंचे थे. प्रदर्शन में हिस्सा लेने के लिए किसान नेता राकेश टिकैत भी पहुंचे. आखिर दिनभर की खींचतान के बाद देर शाम आंदोलनकारी किसान बातचीत के लिए राजी हो गए. अब इस मसले पर 21 सदस्यीय कमेटी प्रशासन के साथ बात करके हल निकालेगी.