Hisar News: किसानों के गुस्से का शिकार हुए दुष्यंत चौटाला, ढाई घंटे तक फंसे रहे एयरपोर्ट पर

किसानों की बढ़ती संख्या देख प्रशासन के पसीने छूट गए.

किसानों की बढ़ती संख्या देख प्रशासन के पसीने छूट गए.

दुष्यंत चौटाला ढाई घंटे एयरपोर्ट पर फंसे रहे. करीब तीन बजे हेलीकॉप्टर से रवाना हुए. एचएयू में हेलीकॉप्टर से उतरने के बाद चौटाला बिना झंडी लगी साधारण कार में सवार होकर लघु सचिवालय की ओर निकले.

  • Share this:
हिसार. प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला को हिसार दौरे के दौरान किसानों के विरोध का सामना करना पड़ा. दुष्यंत चौटाला सरकारी और निजी कार्यक्रमों में शिरकत करने आए थे. हालांकि प्रशासन की ओर से उपमुख्यमंत्री का कार्यक्रम गोपनीय रखा गया था लेकिन फिर भी किसान संगठनों को एक दिन पहले ही सभी जानकारी मिल गई थी. सुबह 11 बजे से ही किसान हिसार-दिल्ली नेशनल हाईवे-9 पर एयरपोर्ट के सामने जमा होने लगे. पुलिस की ओर से एयरपोर्ट के अंदर जाने वाले रास्ते पर बैरिकेडिंग की हुई थी. किसानों की बढ़ती संख्या देख प्रशासन के पसीने छूट गए. देखते ही देखते किसानों की तादात बढ़ गई और उन्होंने ट्रालियां अड़ाकर नेशनल हाईवे पर जाम लगा दिया. पुलिस प्रशासन ने किसानों को मनाने की कोशिश की लेकिन वे नहीं माने. देखते जी देखते किसानों की भीड़ का नेतृत्व राजनीतिक पार्टी से जुड़े लोग करने लगे तो प्रदर्शन उग्र हो गया. किसानों ने बैरिकेडिंग तोड़कर एयरपोर्ट में घुसने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने लाठियों के बल पर उन्हें पीछे धकेल दिया.

पुलिस की कार्रवाई देख राजनीतिक दलों के लोग पीछे हट गए और किसान बैरिकेडिंग के सामने धरने पर बैठ गए. धरने पर बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल थीं. दोपहर करीब साढ़े 12 बजे उपमुख्यमंत्री का हेलीकॉप्टर एयरपोर्ट पर उतरा. हेलीकॉप्टर को देखते ही किसानों ने काले झंडे दिखाने शुरू कर दिए और नारेबाजी करने लगे. दुष्यंत चौटाला ने एयरपोर्ट पर उतरकर एविएशन अधिकारियों को मीटिंग ली और यहां चल रहे विकास कार्यों की जानकारी ली. इसके बाद प्रशासन ने एयरपोर्ट के बाहर रास्ता बंद होने की और डिप्टी सीएम से हेलीकॉप्टर के जरिये हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय (एचएयू) होते हुए लघु सचिवायल सहित अन्य कार्यक्रमों में जाने का अनुरोध किया.

ढाई घंटे एयरपोर्ट पर फंसे रहने के बाद सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए दुष्यंत चौटाला करीब तीन बजे हेलीकॉप्टर से रवाना हुए. एचएयू में हेलीकॉप्टर से उतरने के बाद दुष्यंत चौटाला बिना झंडी लगी साधारण कार में सवार होकर लघु सचिवालय की ओर निकले. सुरक्षा को देखते हुए डिप्टी सीएम की गाड़ी खाली रखी गई. उसे भी काफिले में शामिल किया गया ताकि विरोध करने वालों में भ्रम बना रहे. चौटाला ने लघु सचिवालय से ही विभिन्न विकास कार्यों का शिलान्यास और उद्घाटन किया. इसके बाद वह निजी कार्यक्रमों में गए. सेक्टर-13 में दुष्यंत चौटाला अपने रिश्तेदार के यहां गए. यहां से उन्हें अर्बन एस्टेट अपने निवास पर जाना था लेकिन सुरक्षा कारणों को देखते हुए उन्हें अपने निवास पर जाना रद करना पड़ा और वापस एचएयू आकर हेलीकॉप्टर से उड़ान भरनी पड़ी.

किसानों ने दुष्यंत चौटाला की कोठी का घेराव कर पुतला फूंका. डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने लाला लाजपतराय कॉम्प्लेक्स के नए चैम्बर्स भवन में पहली लिफ्ट का शुभारंभ किया. इसके अलावा बरवाला में उपमंडल स्तरीय प्रशासनिक भवन और आवासीय परिसर का उद्घाटन किया. रेवाड़ी-भठिंडा रेलवे लाइन पर बने थ्री-लेन रेलवे ओवर ब्रिज और आदमपुर से दड़ौली रोड़ पर अनाज मंडी के समीप बनने वाले टू-लेन रेलवे ओवर ब्रिज का भी शिलान्यास किया. किसान नेताओं और आंदोलनकारियों का कहना था कि किसी भी कीमत पर दुष्यंत चौटला को हिसार की धरती पर घुसने नहीं दिया जायेगा. उन्होंने कहा कि उनका मकसद शांतिपूर्वक प्रदर्शन करना था और किसी भी प्रकार की अराजकता फैलाना नहीं. किसानों का कहना है कि आगे भी दुष्यंत का इसी तरह विरोध होता रहेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज