हरियाणा: महंत चंदनपुरी मंदिर के हर काम में अड़ाता था टांग, रास्ते से हटाने के लिए दी थी 5 लाख में सुपारी

मंदिर की गद्दी को लेकर बाबाओं में विवाद, महंत चंदनपुरी पर बरसाई गोलियां

मंदिर की गद्दी को लेकर बाबाओं में विवाद, महंत चंदनपुरी पर बरसाई गोलियां

Firing on Monk in Hisar: समाधा मंदिर की गद्दी को लेकर पंचमपुरी व चंदनपुरी के बीच लंबे समय से विवाद चल रहा है. समाधा मंदिर में महंत चंदनपुरी लंबे समय तक रहे, लेकिन बाद में पांचमपुरी को मंदिर का गद्दीनशीन बनाया गया. इसी बात पर दोनों के बीच कई सालों से विवाद चल रहा है.

  • Share this:
हिसार. महंत चंदनपुरी पर जानलेवा हमला कर फायरिंग (Firing) करने के मामले में हांसी जिला पुलिस (Police) सीआइए-2 टीम ने समाधा मंदिर के गदीनशीन महंत पंचमपुरी सहित दो अन्य युवकों को शनिवार देर शाम को गिरफ्तार कर लिया. महंत चंदनपुरी पर फायरिंग करने की पूरी पटकथा महंत पंचमपुरी ने रची थी और फायरिंग की वारदात अपने चेलों से अंजाम दिलवाई. बरवाला रोड पर महंत चंदनपुरी पर फायरिंग ढाणी कुतुबपुर निवासी संदीप ने की. इस षडयंत्र में शामिल अन्य युवक खरड़ चुंगी निवासी सोनू उर्फ कमांडो को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

बता दें कि महंत चंदनपुरी पर बीते मंगलवार को बरवाला रोड पर जानलेवा हमला किया था व बाइक सवार युवकों ने महंत पर फायर किए थे. इस मामले में पुलिस ने समाधा मंदिर के गदीनशीन पंचमपुरी सहित दो अन्य युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था. एसपी ने पूरे मामले की जांच सीआइए 2 को सौंपी थी. साइबर सेल व सीआइए टीम ने इस पूरे मामले को महज कुछ दिनों में सुलझा दिया. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार महंत चंदनपुरी मंदिर के कार्यों के खिलाफ कोर्ट में चला जाता था. आखिर महंत चंदनपुरी को रास्ते से हटाने के लिए पंचमपुरी ने शिष्यों को पांच लाख रुपये की सुपारी दी थी. पंचमपुरी ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को निराधार बताया है.

बाबा के फोन खोले राज, अपराधिक किस्म के व्यक्ति के आते थे फोन

महंत पंचमपुरी वारदात के समय वैसे तो मंदिर में ही मौजूद था, लेकिन उनकी कॉल डिटेल से पुलिस को कई संदिग्ध फोन कॉल मिले. इसके अलावा पंचमपुरी के व्हॉट्सएप पर सोनू उर्फ कमांडो के कुछ कॉल भी थी. जिसके बाद पुलिस ने महंत को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो पुलिस टीम हैरान रह गई. महंत की संलिप्तता के सबूत मिलने के बाद पुलिस ने अन्य आरोपितों कि गिरफ्तारी के लिए छापेमारी शुरु कर दी व शनिवार देर शाम सोनू व संदीप की गिरफ्तारी होने के बाद पुलिस ने मामले का खुलासा कर दिया.
यूं रची महंत ने चेलों के साथ मिलकर वारदात की पटकथा

समाधा मंदिर के महंत पंचमपुरी व चंदनपुरी एक ही गुरु के शिष्य हैं. दोनों के बीच समाधा मंदिर की गद्दी को लेकर विवाद चल रहा है. दोनों के बीच कई मामले कोर्ट में विचाराधीन हैं. महंत पंचमपुरी द्वारा जब भी मंदिर की जमीन पर कोई निर्माण कार्य शुरु करवाया जाता तो चंदनपुरी पक्ष कोर्ट में याचिका दायर कर देता. सैनीपुरा गांव में जमीन व उसके मुआवजे का केस हो या फिर मंदिर की जमीन को पट्टे पर देने का मामला. महंत ने समाधा मंदिर संस्था के तत्वाधान में स्कूल शुरु करने का विचार किया तो भी चंदनपुरी ने कानूनी पेंच फंसा दिया. महंत पंचपुरी इस कारण परेशान रहने लगा. एक दिन मंदिर में आने वाले चेलों ने कहा कि हम चंदनपुरी को रास्ते से हटा देते हैं और इसके बाद महंत के चेलों ने वारदात को अंजाम दे दिया.

हत्यारे बाबा के खास चेलों में शुमार



जिन युवकों पर आरोप लगे हैं उनका मंदिर में लगातार आना जाना रहता था और बाबा के खास चेलों में शुमार हैं. सीआइए 2 के  इंचार्ज विजय तंवर ने बताया  की पुलिस ने महंत चंदनपुरी पर फायरिंग करने के मामले में महंत पंचमपुरी, सोनू व संदीप को गिरफ्तार किया है. फायरिंग की वारदात संदीप ने की थी. लेकिन महंत का नाम भी इस मामले में सामने आया है. प्रारंभिक पूछताछ में गद्दी को लेकर विवाद ही सामने आया है, लेकिन पुलिस आरोपितों को कोर्ट में पेश कर रिमांड मांगेगी व इसके बाद ही पूछताछ में खुलासा होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज