लोकसभा चुनाव 2019: दादा की राह पर चलते हुए क्या इतिहास को कायम रख पाएंगे भव्य बिश्नोई?

महज 26 वर्षीय भव्य ने बताया कि वो लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स और फिर आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से पढ़े हैं.

News18 Haryana
Updated: May 16, 2019, 1:43 PM IST
लोकसभा चुनाव 2019: दादा की राह पर चलते हुए क्या इतिहास को कायम रख पाएंगे भव्य बिश्नोई?
भव्य बिश्नोई
News18 Haryana
Updated: May 16, 2019, 1:43 PM IST
पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी भजनलाल का सियासी गढ़ हिसार एक नई इबारत लिखने को तैयार है. महज 26 साल की उम्र में भजन के पौत्र भव्य बिश्नोई हिसार लोकसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी है. इस सीट से उनके पिता कुलदीप बिश्नोई और उनके दादा भजनलल सांसद बनकर देश की सबसे बड़ी पंचायत में पहुंच चुके हैं. अब देखना यह है कि अपने पिता और दादा की राह पर चलते हुए भव्य क्या अपने परिवार के भव्य इतिहास को कायम रख पाएंगे या नहीं.

कौन हैं भव्य बिश्नोई



महज 26 वर्षीय भव्य ने बताया कि वो लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स और फिर आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से पढ़े हैं. भव्य का छोटा भाई चैतन्य बिश्नोई क्रिकेटर हैं और आईपीएल में चेन्नई की टीम से खेलते है. उनकी एक छोटी बहन भी है. वे कहते हैं कि लोगों को उम्मीद थी कि दुष्यंत देश के सबसे युवा सांसद बने हैं पर वो कुछ कर ही नहीं पाए जिससे पूरा हिसार उनसे निराश है.



पिता को माना जाता है कांग्रेस का गैर जाट नेता

भव्य के पिता कुलदीप बिश्नोई को कांग्रेस का गैर जाट नेता माना जाता है. इसका लाभ भव्य को मिल सकता है, लेकिन बृजेंद्र सिंह को मोदी लहर का लाभ मिलने की पूरी संभावना है. मोदी लहर के आगे दूसरे उम्मीदवारों की चुनौती बढ़ती जा रही है. दुष्यंत चौटाला को आम आदमी पार्टी के साथ हुए गठबंधन का फायदा मिलने की पूरी संभावना है.


Loading...

2014 में भव्य के पिता को मिली थी हार

2014 में हिसार लोकसभा सीट से कुलदीप बिश्नोई को हराकर इनेलो से दुष्यंत चौटाला सांसद बने थे. हालांकि उस समय कुलदीप बिश्नोई हजकां पार्टी औऱ भाजपा गठबंधन से चुनाव लड़े थे. राजनीति के जानकारों का कहना है कि उस समय कुलदीप बिश्नोई द्वारा जाट समाज को लेकर की गई आपत्तिजनक टिप्पणी के कारण वो हार गए थे. फिलहाल कुलदीप बिश्नोई कांग्रेस पार्टी में हैं. उन्होंने हजकां का कांग्रेस में विलय कर दिया था.

ये भी पढ़ें-

फतेहाबाद में दो बाइक की टक्कर, दो लोगों की मौत, 3 घायल

BJP को वोट नहीं दिया तो चचेरे भाई ने मारी गोली, बेटे को बचाने आई मां भी घायल
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...