होम /न्यूज /हरियाणा /

हिसार: किसानों के समर्थन में सतरोल खाप का फैसला, डेरी वालों को देंगे 100 रुपये लीटर दूध

हिसार: किसानों के समर्थन में सतरोल खाप का फैसला, डेरी वालों को देंगे 100 रुपये लीटर दूध

खापों की महापंचायत में किए गए ऐलान के बाद किसान आंदोलन के समर्थन में दुग्ध किसानों भी उतर आए हैं-फाइल फोटो

खापों की महापंचायत में किए गए ऐलान के बाद किसान आंदोलन के समर्थन में दुग्ध किसानों भी उतर आए हैं-फाइल फोटो

किसानों के समर्थन में नारनौद में खाप पंचायत की एक बैठक हुई. इसमें तय किया कि 1 मार्च से डेरी और दूधकेंद्रों को 100 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से दूध बेचा जाएगा.

हिसार. केंद्र सरकार (Central Government) के नए कृषि कानूनों (New Agricultural Law) के खिलाफ दिल्ली के बॉर्डरों (Delhi Border) पर तीन महीने से किसान आंदोलन (Farmers Agitation) चल रहा है. किसानों की मांग पर केंद्र सरकार के साथ कई बैठकें हो चुकी हैं, पर बातचीत किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है. इस स्थिति को देखते हुए सरकार पर दबाव बनाने और किसानों के समर्थन में हिसार (Hisar) के नारनौद (Narnaud) में सतरोल खाप (Satrol Khap) की एक बैठक हुई. इस बैठक में उन्होंने तय किया कि 1 मार्च से डेरी और दूध के केंद्रों को 100 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से बेचा जाएगा.

आपको बता दें कि एक तरफ पेट्रोल और डीजल की कीमतें आसमान छू रही हैं, तो दूसरी तरफ अगर दूध की कीमत बढ़ गई तो आम आदमी की मुश्किलें बढ़ जाएंगी. नारनौद में किसानों के समर्थन में सतरोल खाप पंचायत ने यह बैठक की थी. उन्होंने तय किया कि 1 मार्च से 100 रुपये प्रति लीटर की दर से दूध बेचा जाएगा. नारनौद के दादा देवराज धर्मशाला में सतरोल खाप की बैठक में यह फैसला किया गया है.

इस बात की जानकारी देते हुए सतरोल खाप के प्रधान रामनिवास लोहान व प्रवक्ता फुल कुमार ने बताया कि किसानों के समर्थन में यह फैसला किया गया है. उन्होंने कहा कि सरकार तीन महीने हो गए टस से मस नहीं हो रही. किसानों को 3 महीने से ऊपर का समय हो गया प्रदर्शन करते हुए. आज सतरोल खाप ने यह फैसला किया है कि डेरी और दूध के केंद्रों को किसान 100 रुपये प्रति लीटर की दर से दूध बेचेंगे. वही गरीब आदमी व आपस में दूध देने पर कोई भी पाबंदी नहीं लगाई गई है. आपको बता दें कि सतरोल खाप एक बड़ी खाप है और किसानों के समर्थन में पहले भी कई फैसले ले चुकी है.

Tags: Central government, Delhi Border, Farmers Agitation on Delhi Border, Farmers Protest on Delhi Border, Hisar news, Milk, New Agricultural Law

अगली ख़बर